घर / खेतीबाड़ी / नीति ऐ जोजना / राश्ट्रीय पशुधन मिशन ( एनएलएम )
सांझा करो
Views
  • राज्य Open for Edit

राश्ट्रीय पशुधन मिशन ( एनएलएम )

इस शीर्शक दे तैह्त पशुधन कन्नै जुड़े मुक्ख पैह्लुएं ते इस आस्तै शुरू कीते गे मिशन दी मुक्ख जानकारियें गी एह्दे च प्रस्तुत कीता गेआ ऐ ।

पशुधन उत्पादन च मात्रात्मक ते गुनात्मक सुधार सुनिश्चित करना राश्ट्रीय पशुधन मिशन (एल एल एम) दा मुक्ख उदेश्य ऐ ।

पशुचारा संसाधन

वित्तीय साल 2014-15 च शुरू कीता गेआ राश्ट्रीय पशुधन मिशन (एन एल एम) पशुधन उत्पादन दे तरीकें ते सारे हितधारकें दी क्षमता निर्मान च मात्रात्मक ते गुनात्मक सुधार सुनिश्चित करग । चारे ते ओह्दे विकास उप्पर ध्यान दिंदे होई इस जोजना च आखेआ गेआ ऐ जे एन एल एम दे तैह्त चारा ते चारा विकास उप-मिशन पशु चारा संसाधनें दी कमी दी समस्याएं दा समाधान करने दी कोशिश होग । तां जे भारत दे पशुधन खेत्तर गी आर्थक रूप कन्नै व्यवहारिक बनाया जाई सकै ते निर्यात क्षमता दा उपयोग कीता जाई सकै ।

रोगें दे प्रभावी ध्यान दा लक्ष्य

डेयरी ते पशुधन उत्पादकता दे विकास दे बारे च मिशन च आखेआ गेआ ऐ जे सारें शा बड्डी बाधा पशु रोगें जि’यां – एफएमडी , पी पी आर , ब्रूसीलेसिस , एवियन इन्फ़्लूएंजा बगैरा दी बड्डे पैमाने उप्पर प्रसार दी जरूरत ऐ , एह्दे उत्पादकता उप्पर उल्ट प्रभाव पौंदा ऐ । डंगरें दे रोगें दी संख्या च प्रभावी ध्यान दे राश्ट्रीय रननीति दी जरूरत गी ठीक मनदे होई आखेआ गेआ ऐ जे डंगरें दी सेह्त आस्तै मजूदा जोजना गी मजबूत कीता गेआ ऐ । अगस्त 2010 दे बाद थमां 221 जिलें च चलाए जा करदे पैर ते मूंह् रोग दिक्ख रिक्ख कार्यक्रम (एफ एम डी – सी पी ) गी उत्तरप्रदेश दे बाकी बचे जिलें ते राजस्थान दे सारें जिलें च 2013-14 च बी शुरू कीता गेआ हा , उस चाल्लीं अजें तकर इस कार्यक्रम गी 331 जिलें च चलाया जा करदा ऐ । एफ एम डी –सी पी गी 12 वीं जोजना दे तैह्त पैसे ते वैक्सीन दी उपलब्धता दे आधार उप्पर सारे भारत च लागू करने दा फैसला लैता गेआ ऐ ।

दुद्ध उत्पादन च बढौतरी दा लक्ष्य

दुद्ध उत्पादन च बढौतरी दे लक्ष्य दे बारे च जानकारी दिन्दे होई मिशन च आखेआ गेआ ऐ जे जानवरें दी संख्या च बढ़ौतरी दे सिवा दुधारू पशुएं दी उत्पादकता बधाइयै हासल कीती जाई सकदी ऐ । मता दुद्ध उत्पादन आस्तै करसाने गी प्रोत्साहत करने आस्तै , करसाने गी फायदेमंद कीमत उप्पर अपने उत्पादन बेचने आस्तै दुद्ध किट्ठा करने दे प्रभावी तंत्र गी बनाने दी जरूरत ऐ , जेह्ड़े जगह्–जगह् दुद्ध उत्पादकें गी जोड़ने आस्तै इक प्रभावी खरीद प्रनाली दी स्थापना कन्नै पक्का कीता जाई सकदा ऐ ।

दुद्ध कन्नै जुड़े उत्पाद ते प्रसंस्करन उद्योग

लगातारता ते बिक्री आस्तै दुद्ध दे विशे उप्पर बी विस्तार कन्नै गल्लां कीतियां गेइयां न एह्दे च बिक्री आस्तै दुद्ध गी किट्ठा कीते जाने जां प्रसंस्करन आस्तै दुद्ध इस्तेमाल होने तकर दुद्ध गी कट्ठा करने ते सांभ संभाल आस्तै ग्राएं –पिंड़े आह्ले खेतरें च कोल्ड चेन ज्नेही बुनयादी सुविधाएं दे विस्तार कन्नै दुद्ध दी बर्बादी गी रोकने आस्तै कदम चुक्क्ने दी लोड़ दस्सेआ गेआ ऐ । थोक दुद्ध कूलर्स दी जगह् तैह् करने आस्तै व्यविस्थित जोजना बनाने दी जरूरत ऐ , तां जे लागे – दीगे दे ग्राएं दे करसाने इस तकर आसानी कन्नै पुज्जी सकन । विभाग दी पैह्लू उप्पर राश्ट्रीय गोकुल मिशन दी शुरूआत कीती गेई ऐ जेह्दा उदेश्य केंद्रत ते विज्ञानिक तरीके कन्नै स्वदेशी नस्लें दा संरक्षन ते विकास करना ऐ । गोकुल मिशन दी जरूरता गी दस्सदे होई आखेआ गेआ ऐ जे राश्ट्रीय गोकुल मिशन , 12 वीं पंचवर्शीय जोजना दे दोरान 500 करोड़ रुपेS दे परिव्यय दे कन्नै गौ जातीय ब्रीडिंग ते डेयरी विकास दे ‘राश्ट्रीय कामधेनु ब्रीडिंग’

“राश्ट्रीय कामधेनु ब्रीडिंग केंद्र” गी मिशन च जरूरत दस्सदे होई सरकार ने स्वदेशी नस्लें दे विकास ते संरक्षन आस्तै उतैमता केंद्र दे रूप च “राश्ट्रीय कामधेनू ब्रीडिंग केंद्र” दी स्थापना दा प्रस्ताव रक्खेआ ऐ , जेह्ड़ा उत्पादकता बधाने ते आनुवांशिक गुनवत्ता दे उन्नयन दे उदेश्य दे कन्नै समग्र ते वैज्ञानिक तरीके कन्नै (37 मवेशी ते 12 मेहियां ) स्वदेशी नस्लें दे विकास ते संरक्षन दा कम्म करग ।

नीली क्रांति आस्तै लक्ष्य

मच्छी उत्पादन दे सरबंध च आखेआ गेआ ऐ जे 2013-14 च 9058 मिलियन टन उत्पादन ते कुल वैशिवक मच्छली उत्पादन च 5-7 प्रतिशत दे जोगदान कन्नै भारत दा विश्व च दूए सारें शा बड्डे मच्छली उत्पादक देश दे रूप च जगह् कायम ऐ । एह् दृशटिकोन रखदे होई सरकार इस खेत्तर च नीली क्रांति उप्पर ध्यान केंद्रत करै दी ऐ । नीली क्रांति दा मतलब खाद्य ते पोशन सुरक्षा , रूज़गार ते बेह्तर आजीविका आस्तै उपलब्ध कराने आस्तै मच्छली उत्पादन दा तेज ते लगातार विकास करना ऐ ।

स्त्रोत : पत्र सूचना कार्यालय

2.58823529412
अपनी राऽ देओ

उप्पर दित्ते गेदे बिशे च जेकर तुंदी कोई प्रतिक्रिया/ राऽ ऐ तां किरपा करियै इत्थे पोस्ट करी लैओ

Enter the word
Back to top