घर / खेतीबाड़ी / पशुपालन / डंगर सेह्तमंद तां कमाई बी शैल
सांझा करो
Views
  • राज्य Open for Edit

डंगर सेह्तमंद तां कमाई बी शैल

हर दौर च पशु/ डंगर पालन इक सेही कम्म साबत होआ ऐ । करसान ते आमतौर उप्पर डंगर-बच्छा पालदे न , ब आम नौकरी पेशा करने आह्ले बी इसगी अपनाई सकदे न । डंगर बच्छा पालियै बी चंगी ख़ासी कमाई कीती जाई सकदी ऐ ।

परिचे

साढ़े देश दे ज़्यादातर करसान खेतीबाड़ी करने दे कन्नै-कन्नै गौ-मैंह् बी पालदे न । जेह्दे कन्नै उ’नेंई शैल बाधियै कमाई होंदी ऐ । गौ- मैंह् थमां मता दुद्ध लैना हर करसान दा मकसद होंदा ऐ , पर किश करसान अपनी गौ जां मैंह् थमां हुंदियें कूवत दे मताबक दुद्ध लैने च नकाम रौह्ंदे न ते हुंदियां गावां जां मैह्यां बी सेह्तमंद नेई रौहदियां न ।

आमतौर उप्पर मतियां सारियां गवां जां मेहियां अक्तूबर , नवंबर म्हीनै नामियां होँदियां न । आमतौर उप्पर गवां जां मेहियां नामियां होने च मता चिर लैन तां तौले शा तौले डंगरे आह्ले डाक्टर गी बुलाइयै दस्सों । जेकर गौ जां मेंहि दा नवजात जम्मेआ बच्चा (बच्छी, बच्छा जां कट्टी , कट्टा ) जम्मने दे त्रीह् सेकेंड बाद साह् लैना शुरू नेईं करदा ऐ , तां उसगी आर्टिफिशयल साह् देने आस्तै नवजात बच्चे दी छाती गी बल्लें-बल्लें दवाओ ते पिछले हिस्से गी चुक्को । ऐसा करने कन्नै बच्चा साह् लैना शुरू करी देग ।

गौ /मेंह् दा ब्याना (दा सूना )

नवजात बच्चा जम्मनें दे 2-3 घैंटें बाद पैह्ला गोहा करदा ऐ । जेकर नवजात बच्चा जम्मने दे 2-3 घैंटें बाद गोहा नेईं करदा ऐ तां उसगी 30 मिलिलीटर अरंडी दा तेल पिलाओ ।

नवजात बच्चे दे जिस्म उप्पर (जम्मने दे तौले बाद ) लग्गेआ गर्जाला आमतौर उप्पर मांऽ (चट्टियै ) साफ करदी ऐ । जेकर गर्जाला निक्के बच्चे दी मांऽ चट्टियै ठीक चाल्लीं साफ नेईं करदी ऐ , तां ऐसी हालत च उसगी साफ- सुत्थरे सुक्खे कपड़े कन्नै साफ करो।

आमतौर उप्पर गौ जां मैंह् सूने दे 2-4 घैंटें बाद जेर सुटदी ऐ , ब केई बारी ओह् 6-12 घैंटें तकर दा समां जेर सुट्ट्ने च लेंदी ऐ । जेकर गौ जां मैंह् सूने दे 8-12 घैंटें बाद बी जेर नेईं सुट्टदी ऐ , तां एह्दा मतलब जेर रुकी गेदी ऐ । ऐसी हालत च तौले शा तौले डंगर दे डाक्टर जां इक माहिर शा बच्चेदानी च फ्यूरिया ज्नेही दोआ पान । जेकर जेर 30 घैंटें बाद बी नेईं निकलदी तां डंगरें दे डाक्टर शा बाहर कढ़ाओ ।

सूई दी गौ जां मैंह् गी पैह्ले 5 दिन तरक 100 मिलिलीटर बच्चेदानी दी सफाई आह्ली दोआ दिनै च 2 बारी जरूर पिलाओ ।

बच्चे (बच्छा , बच्छी जां कट्टा, कट्टी ) दे जम्मने परेंत गै ओह्दी नाभि उप्पर एंटीसेप्टिक जानि टिंचर आयोडीन , डेटोल जां हल्दी पौडर जरूर लाओ ।

जम्मने आह्ले बच्चे गी पैह्ला दुद्ध तौलें गै पिलाई देओ । एह् पैह्ला दुद्ध दी खुराक बच्चे दे जिस्म दे 1/10 हिस्से दे बराबर रक्खो जानि 10 किल्लो दे बच्चे गी 1 लीटर पैह्ला दुद्ध पीने गी देओ ते 30 किल्लो दे बच्चे गी त्रै (3) लीटर पैह्ला दुद्ध पिलाओ । बच्चे गी बीमारियें शा बचांदी ऐ । एह् बच्चे च बमारी कन्नै लड़ने दी कुवत पैदा करदी ऐ । एह् पिलाने कन्नै बच्चा बचपन थमां गै तंदरुस्त रौंह्दा ऐ ।

अक्तूबर नवम्बर च स्याल औना शरू होई जंदा ऐ , ऐसे समें च बच्चे ते ओह्दी मांऽ गी ठ्ंडू शा बचाओ । बच्चे गी सेह्तमंद रखने आस्तै ते कब्ज शा बचाने आस्तै समें-समें उप्पर 30-40 मिलिलीटर अरंडी दा तेल पिलांदे रवो ।

जिसलै बच्चे दी उम्र 3 म्हीने होई जा , तां उसगी खुरपक्का , मुंहपक्का बमारी आस्तै बचाव लेई बच्व दा टीका लगाओ । मई जून च 6 म्हीनें थमां मती उमर आह्ले डंगर गी खुरपक्का , मुंहपक्का, गलघोटू ते लंगरिया बमारीयें गी रोकने आह्ला टीका लगाओ ।

गौ ते मैंह् गी हर 3 जां ढाई लीटर दुद्ध दे स्हाव कन्नै 1 किलोग्राम राशन देओ । जेह्ड़ी गौ जां मैंह् दुद्ध नेईं देऐ करदी ऐ , उसगी हर दिन 1 किलोग्राम राशन देना चाहिदा । गौ जां मेँह् गी 70% हारा चारा देना चाइदा । 100 किलोग्राम भार आह्ली गौ गी 2.5 किलोग्राम ते मैंह् गी 3 किलोग्राम सुक्की खराक दी जरूरत होंदी ऐ । एह्दे च दो तिहाई चारा ते इक्क तिहाई दाना देना चाहिदा ।

हरे चारे च घट्ट शा घट्ट 11-12% प्रोटीन होना चाहिदा ऐ ते दिन च 18-20% प्रोटीन जरूरी ऐ । सारें डंगरें गी संतुलित मात्रा च प्रोटीन देना जरूरी होंदा ऐ । डंगरें गी संतुलित मात्रा च चारा दाना दिनै च 2 बारी 8-10 घैंटें दे फर्क रखियै देओ । एह्दे लावा 2 बारी साफ पानी पीने गी देओ । 6 म्हीनें दी गब्भन मेंही गी ढेड किलोग्राम राशन (दाना ) जरूर देओ । दुधारू डंगरें गी रौजाना घट्ट शा घट्ट 5 किलोग्राम हारा चारा जरूर देओ । ठंडू दे दिनें च बरसीन सारें शा बधियै हारा चारा होंदा ऐ ।

डंगरे दे राशन च 2 फीसदी मिनरल मिक्सचर जरूर मिलाओ । डंगरे शा मता दुद्ध लैने ते उ’नेंगी लम्में समें तरक सेह्तमंद बनाई रखने आस्तै उ’नेईं संतुलित मात्रा च चारा दाना देना जरूरी होंदा ऐ । संतुलित राशन च खनिज लवन दे कन्नै पौशक तत्व , प्रोटीन, विटामिन बगैरा तय मात्रा च रक्खे जंदे न । संतुलित राशन बनाने दा फार्मूला न्यूट्रीशन एक्सपेर्ट कन्नै रबता करियै हासिल करो । संतुलित राशन घर बी बनाई सकदे आं । राशन बनाने च बधियै क्वालिटी दा नाज (जेई , जौ , कनक , ज्वार बगैरा ) तेल , खल (सरेआं , मूंगफली बगैरा दी खल ), ग्वारमल , शीशा , लूँ, मिनरल मिक्सचर ते बिटामिनें दा संतुलित मात्रा च इस्तेमाल कीता जंदा ऐ ।

एडवांस डेरी फार्म उप्पर पूरक आहार (सप्प्लीमेंट राशन ) दित्ता जंदा ऐ । पूरक आहार खलाने कन्नै डंगरें दे जिस्म च आईयां कमियां दूर होई जंदियां न ते ओह् लम्मे समें तरक सेह्तमंद ते दूधारू बनेआ रौंह्दा ऐ । पूरक आहार च मिनरल मिक्सचर , फीड एडिटिव , बाईपास प्रोटीन , बी क्म्प्लेक्स बगैरा आहार बाजार थमां बेचदियां न , हुंदी सारी जानकारी हासल करियै अपने डंगरें गी पूरक आहार खिलाओ ।

निक्के जा जोआन डंगरें गी बाह् रली ते अंदरूनी कीड़े (इंटरनल ते एक्सटर्नल पैरासाईट ) बड़ा मता नुकसान पजांदे न । अंदरूनी कीड़े जि’यां फीता ,नलप बगैरा डंगरें दे ढिड्डै च रेहियै ओह्दा खून ते आहार खंदे न । बाह् रले कीड़े जि’यां जूं , किल्ली , पिस्सूं बगैरा डंगरें दे बाह् रली जिस्म उप्पर रौंह्दे न ते ओह्दा खून पींदे न ।

बाह् रले ते अंदरूनी दोऐ किस्म दे कीड़े डंगरें गी कमजोर करदे न , जिसदे करियै डंगरे दी दुद्ध देने दी शक्ति घट्ट होंदी जंदी ऐ ते डंगर समें दे पैह्ले कमजोर ते बमार होइयै मरी सकदे न डंगर दे अंदरूनी केड़ें गी मारने आस्तै कीड़े मार दोआ जियां फेंटास, एल्बोमार , पैनाखूर ,बगैरा दी सही मात्रा डंगरें आह्ले हस्पताल थमां पुछियै देओ । बाह् रले कीड़े गी मरने आस्तै ब्यूटाक्स दोआ दी 2 मिलिलीटर मात्रा 1 लीटर पानी च घोलियै डंगरें दे शरीर उप्पर शैल चाल्लीं कन्नै पोचा लाओ , ब दोआ लाने शा पैह्लें डंगरें दे मूंहै गी छिक्का ज़रूर बन्नीं लैओ , तां जे डंगर दोआ गी चट्टी नेईं सकन । डंगरें दे गोहे दे गोह्टे(उपले)जानि इंधन बनाने च कदें बी नेईं करो । इक बड्डा (गड्ढा ) खड्ढा कढियै ओह्दे च गोहा सुट्टो ते देसी हैल त्यार करो , जिंदे कोल जमीन नेईं , ओह् गोहे दी खाद (हैल ) खड्ढे च त्यार करियै उसगी शैल पैसे कन्नै बेची सकदे न । जैविक खेतीबाड़ी च गोहे दे हैल दी बड़ी मती मंग रौंह्दी ऐ । दुद्ध उत्पादन आस्तै म्हेशा दुधारू नस्ल दे डंगर गै पालो । गौ च साहिवाल , हरियाना करनस्विस ,करनफ्रीज बगैरा ते मैंह् च मुर्रा म मेहसाना बगैरा नस्लां माली नजरिये कन्नै फायदेमंद साबत होंदी ऐ । दुधारू पशु (गौ , मैंह् ) खरीदने शा पैह्लें ओह्दी नस्ल , दुद्ध देने दी कूवत बगैरा दी जाच जरूर करनी चाहिदी । ओह्दा बंशवली दा रेकार्ड बी जरूर दिक्खना चाहिदा जानि ओह्दी मांऽ, नानी ,पड़नानी बगैरा किन्नां दुद्ध दिंदी ही । एह्दे लावा अपने लाके ते सुक्ख-सुविधाएं दे अधार उप्पर गै डंगरें द चुनांऽ करो ।

डंगरघर (पशुशाला) म्हेशा ऐसी थाह्र (जगह )बनाओ , जित्थें बरखा दा पानी नेईं रुकदा होऐ । ओह् थाह्र ब्हादार ते साफ-सुथरी होनी चाहिदी । पशुशाला दा फर्श पक्का खुर्दरा रक्खो । गोहे गी डंगरघरा चुकियै दूर हैल हाले खड्ढे च पाओ । डंगरघर दे आलै-दुआलै गंदा पानी जमा नेईं होने देओ ,

डंगरघर च मक्खी मच्छर दे बचाऽ दा बी इंतिज़ाम करो । डंगरे गी ठंड , गर्मी ते बरसातीं शा बचाने आस्तै पूरा इंतजाम करो । ध्यान रक्खो जे डंगरें गी कुसै बी चाल्लीं दी परेशानी नेईं होनी चाहिदी । ठंड दे दिनें च डंगरघर च थल्लै बिछाने आस्तै भोह् , लकड़ी दा भूरा , रूक्खें दे पत्तर जां गन्नें दे सुक्के पत्तर , पराली इस्तेमाल जरूर करो । बिछाने गिल्ला होने दे बाद उसगी गोहे समेत चुकियै हैल आह्ले खड्ढे च पाई देओ । हर दिन सुक्का बिछाना गै इस्तेमाल करो ।

ई’नें गल्लें दा ध्यान रक्खो :

  • डंगरें गी अफ़ारा बमारी शा बचाने आस्तै 1 लीटर मिट्ठे तेल च 200 ग्राम काला लून , 100 ग्राम मिट्ठा खाने आह्ला सोडा । 30 ग्राम जोआन (अजवाइन ) ते 20 ग्राम हिंड मलाइयै देओ , अफारा दे बचाऽ आस्तै जरूरत शा मता बरसीन , खड़ी कनक ते मता राशन नेईं देओ ।
  • डंगरें गी थनैला बमारी शा बचाने आस्तै डंगरघरै गी म्हेशा साफ़सुथरा ते ब्हादार रक्खो । समें-समें उप्पर थनैली जाच आस्तै 1 कप पानी च 1 चिम्मच सर्फ घोलो ते 5 चिम्मचे दुद्ध च 1 चिमम्चा एह् घोल मलाई देओ । जेकर दुद्ध (जैल )फटी जा तां समझो डंगरै गी थनेला होई गेआ ऐ । थनैला होने उप्पर तौले शा तौले डंगरे दे डाक्टर कोला लाज कराओ ।
  • थनैला बमारी दे बचाऽ आस्तै पशु दा दुद्ध लैने शा पैह्लें ते बाद च थनें गी साफ पानी कन्नै धोवों ते साफ सुथरे कपड़े कन्नै पूंझी देओ । दुद्ध कडढ्ने आह्ले हत्थै दे न’ऊं (नाखून) म्हेशा कट्टे दे होने चाहिदे न ।
  • डंगरघर आरामदायक होनी चाहिदी
  • म्हेशा बधियै नस्ल आह्ली गौ जां मैंह् गै पालो , मादा गी गब्भन कराने आस्तै बधियै संडे जां दांद दे वीर्य कन्नै कृत्रिम गर्भधान कराओ ।
  • कट्टी जां बच्छी गी संक्रमन गर्भपात शा बचाने आह्ला टीका लगवाओ । डंगरे गी ढिड्डै दे कीड़े मारने आस्तै हर 6 महीनें च 1 बारी कीड़े मरने आह्ली दोआ देओ ।
  • जिसलै कट्टी जां बच्छी दा भार 250 किलोग्राम होई जा , तां उसगी बेलै सिर गब्भन कराओ । कट्टी, बच्छी दी सफाई दा पूरा ध्यान रक्खो ।

स्रोत : फार्म एन फूड /जेवियर समाज संस्थान रांची

2.27272727273
अपनी राऽ देओ

उप्पर दित्ते गेदे बिशे च जेकर तुंदी कोई प्रतिक्रिया/ राऽ ऐ तां किरपा करियै इत्थे पोस्ट करी लैओ

Enter the word
Back to top