घर / खेतीबाड़ी / मच्छी पालन / मच्छी पालन कि’यां करना चाहिदा
सांझा करो
Views
  • राज्य Open for Edit

मच्छी पालन कि’यां करना चाहिदा

इस भाग च मच्छी पालन कन्नै सरबंधत जानकारी गी दस्सेआ गेआ ऐ ।

मच्छी पालने दी त्यारी

मच्छी आस्तै तलाऽ दी त्यारी बरसांती दे पैह्लें करी लैना ठीक रौंह्दा ऐ । मच्छी पालन सारें चाल्लीं दे निक्के-बड्डे मौसमी ते बारांमासी तलाएं च कीता जाई सकदा ऐ । एह्दे लावा ऐसे तलाऽ जिस च केईं पानि च होनें आह्लियां फसलां जियां सिंघाड़ा , कमल्गट्टा ,मुरार बगैरा लेइयां जंदियां न ओह् बी मच्छीपालन दे कन्नै-कन्नै जरूरी होंदियां न । मच्छी पालने आस्तै जेह्ड़ा हैल , उर्वरक , होर बाकी खाने आह्लियां चीजां सुट्टियां जंदियां न ओह्दे कन्नै तलाऽ दी मिट्टी ते पानी दी उर्वरकता बधदी ऐ , परिनाम दे तौर उप्पर फसल दी पैदावार बी बधदी ऐ । इनें बनस्पति फसलें दा कचरा जह्ड़े तलाऽ दे पानी कन्नै सड़ी गली जंदा ऐ ओह् पानी ते मिट्टी गी मता उपजाऊ बनांदा ऐ जेह्दे कन्नै मच्छी आस्तै मती मात्रा च आहार दे रूप च प्लेक्टान पैदा होंदा ऐ । इस चाल्लीं दोऐ गै इक दूए दे पूरक बनी जंदे न ते आपूं च पैदावार बधाने च मददगार होंदे न धान दे खेतरें च बी जित्थें जून-जुलाई थमां लेइयै अक्तूबर-नवम्बर म्हीनें तकर पानी रौंह्दा ऐ , मच्छी पालियै होर मती आमदनी हासल कीती जाई सकड़ी ऐ । धान दे खेतरें च मच्छी पालने आस्तै इक बक्ख कीस्म दी त्यारी करने दी जरूरत होंदी ऐ ।

करसान अपने खेत्तरै चा शैल मती पैदावार करने आस्तै खेत्तर बांह्दा ऐ , खेतरें दियेँ आड़ें गी समें सिर जरूरत अनुसार मरम्मत करदा ऐ , घाऽ–बरूट बाहर कड्ढ्दा ऐ , जमीन गी हैल ते उर्वरक बगैरा देइयै त्यार करदा ऐ ते समां औने उप्पर बीऽ दे लुङ निकलने बेलै ओह्दी शैल चाल्लीं देखभाल करदे होई गोडी-ताली करदा ऐ , जरूरत मताबक नाइट्रोजन स्फूर ते पोटाश हैल दा प्रयोग करदा ऐ । बेलै सिर बूह्टें दी बमारियेँ दी रोकथाम करने लेई दोआई बगैरा दा इस्तेमाल करदा ऐ । ठीक इस्सै चाल्लीं मच्छी दी शैल पैदावार हासल करने आस्तै मच्छी दी खेती च बी इ’नें कम्में दा करना जरूरी होंदा ऐ ।

तलाऽ दी त्यारी

मौसम तलाएं च मांसाहारी ते अवधनीय क्षुद्र प्रजातियेँ दियां मच्छियां होने दा शक्क नेईं रौंह्दा ते बारांमासी तलाएं च एह् मच्छियां होई सकदियां न । ऐसे तलाएं च जून म्हीने च तलाऽ च घट्ट पानी होने करी पलै-पलै जाल फेरियै हानिकारक मच्छीयें ते कीड़े मकोड़ें गी निकाली देना चाहिदा । जेकर तलाऽ च मवेशी बगैरा पानी नेईं पींदे न तां ओह्दे च ऐसी मच्छीयें गी मरने आस्तै 2000 थमां 2500 किलोग्राम प्रति हेक्टर प्रति मीटर दी दर कन्नै महुआ खल द प्रयोग करना चाहिदा । महुआ खल दे इस्तेमाल करने कन्नै पानी च रौहनें आह्ले जीव मरी जंदे न । ते मच्छियां बी प्रभावत होइयै मरने दे पैह्लें उप्पर आई जंदियां न । जेकर इस बेलै इं’नेगी बाहर कड्ढी लैता जा तां खाने ते बेचने दे कम्म च आई जंदियां न । महुआ खल दे इस्तेमाल करने उप्पर एह् ध्यान रखना जरूरी ऐ जे इसदे इस्तेमाल दे बाद तलाऽ गी 2 शा 3 हफ्ते तरक कोई बी कम्मै च इस्तेमाल नेईं कीता जा । महुआ खल पाने दे 3 हफ्ते बाद ते मौसमी तलाएं च पानी भरने दे पैह्ले 250 शा 300 कि, ग्रा प्रति हेक्टर दि दर कन्नै चूना सुट्टेआ जंदा ऐ जिस कन्नै पानी च रौह्ने आह्ले कीड़े-मकोड़े मरी जंदे न । चूना पानी दे पी एच गी नियंत्रत करियै खरा बधांदा ऐ ते पानी साफ रखा ऐ । चूना पाने दे इक हफ्ते बाद तलाऽ च 10,000 किलोग्राम प्रति हेक्टर हर साल गोहे द देसी हैल पाना चाहिदा । जिनें तलाएं च खेतरें द पानी ते नाले, चा बरखा द पानी बगियै औंदा ऐ ओह्दे च हैल घट्ट मात्र च पाया जाई सकदा ऐ कि जे इस चाल्लीं दे पानी च बैसे बी मती मात्रा च हैल होंदा ऐ । तलाऽ दे पानी । तलाऽ दे पानी आह्ले नकास जां पानी औनें आह्ले रस्ते उप्पर जाली बी लाई जाई सकदी ऐ ।

तलाऽ च मच्छी बीऽ पाने शा पैह्ले इस गल्ल द ध्यान रखना लोड्चदा ऐ जे उस तलाऽ च प्रयुर मात्रा च मच्छी द प्राकृतिक आहार (प्लैंकटान) ऐ । तलाऽ च प्लैंकटान दी सेही मात्रा करने दे उदेश्य कन्नै एह् जरूरी ऐ जे गोहे दे हैल कन्नै सुपर-फास्फेट 300 किलोग्राम ते यूरिया 180 किलोग्राम हर साल प्रति हेक्टर कन्नै पाया जा । साल भर आस्तै निर्धारत मात्रा (10000 किलोग्राम गोहा हैल , 300 किलोग्राम सुपरफास्फेट ते 180 किलोग्राम यूरिया ) दि 10 म्हीनें च बराबर बराबर पाना चाहिदा । इस चल्लीं हर म्हीनै 1000 किलो गोहे द हैल , 30 किलो सुपरफास्फेट ते 18 किलो यूरिया द इस्तेमाल तलाऽ च करने उप्पर प्रयुर मात्रा च प्लैंकटान दी उत्पति होंदी ऐ ।

मच्छी बीऽ संचयन

आमतौर उप्पर तलाऽ च 10000 फ्राई ते 5000 फिंगर्लिंग प्रति हेक्टर दी दर कन्नै (संचय) चयन करना चाहिदा । एह् अनुभव कीता गेआ ऐ जे इससे घट्ट मात्रा पानी च उपलब्ध खुराक द पूरा इस्तेमाल नेईं होई सकदा ते मती मात्रा च सारी मच्छियें गी पूरा आहार नेईं थ्होंदा । तलाऽ च पेदे आहार द पूरे इस्तेमाल आस्तै कतला सतेह् उप्पर रोहू बाशकार च ते मिग्रल मच्छली तलाऽ दे तल च पेदे आहार दा इस्तेमाल करदी ऐ । उस चाल्लीं ई’ने त्रौ’नें प्रजातियें दे मच्छी बीऽ दे चुनांऽ कन्नै तलाऽ दे पानी दे स्त्रर उप्पर पेदी खुराक दा पूरे रूप कन्नै उपयोग होंदा ऐ ते इस कन्नै मती पैदावार हासल कीती जाई सकदी ऐ ।

पालने जोग देशी मुक्ख सफर मच्छियां (कतला , राहू , म्रिगल ) दे लावा किश विदेशी प्रजातियों दियां मच्छलियां (ग्रास, कार्प , सिल्वर कार्प , कमान कार्प ) दा बी अज्जकल चुनाऽ होऐ करदा ऐ । अतः देशी ते विदेशी प्रजातियें दियें मच्छलियेँ दा बीऽ मिश्रत मच्छी पालने दे अंतर्गत चुनाऽ कीता जाई सकदा ऐ । विदेशी प्रजातियेँ दियां एह् मच्छलियां देशी मुक्ख सफर मच्छलियेँ कन्नै कोई सांझ नेई रखदी ऐ । सिल्वर कार्प मच्छी कतला दे समान पानी दे उप्परली सतह् कन्नै , ग्रास कार्प रोहू दी चाल्लीं स्तम्भ कन्नै ते कामन कार्प म्रगल दी चाल्लीं तलाऽ दे तले पर खुराक ग्रैह्न करदी ऐ । इस समस्त छे प्रजातियेँ दे मच्छी बीऽ दा चुनाऽ होने उप्पर कतला , सिल्वर कार्प , रोहू , ग्रासकार्प , मिग्रल ते कामन कार्प गी 20 : 20 :15:15:15:15 दे अनुपात च चुनाऽ कीता जाना चाहिदा । मच्छी बीऽ पलीथीन लफ़ाफ़े च पानी भरियै ते आक्सीजन ब्हा भरियै पैक कीती जंदी ऐ । तलाऽ च बी छोड़ने दे पैह्ले पैकट (लिफाफे) गी थोड़ी चिर आस्तै तलाऽ दे पानी च रक्खना चाहिदा । फ्ही किश तलाऽ दा पानी लिफाफे च जाने देने मगरा समतापन ( एकिमेटाइजेद्गन ) बातवारन त्यार करी लैना चाहिदा ते फ्ही लिफाफे दे मच्छी बीऽ गी बल्लें-बल्लें तलाऽ दे पानी कन्नै मलाई देना चाहिदा । एह्दे कन्नै मच्छी बीऽ दी उत्तर जाविता बधाने च मदद मिलदी ऐ ।

उप्परली खुराक

मच्छी बीऽ चुनांऽ दे बाद जेकर तलाऽ च मच्छी दी खुराक घट्ट ऐ जां मच्छी दी बाढ़ घट्ट ऐ तां चौले दी फक्क (भूसा) (कनकी मिश्रित राईस पालिस ) ते सरेआं जां मूंगफली दी खल लगभग 1800 शा 2700 किलो ग्रां प्रति हेक्टर हर साल दे मान कन्नै देनी चाहिदी ।

इसगी हर दिन इस पक्के समें उप्पर पाना चाहिदा जेह्दे कन्नै मच्छी उसगी खाने दा समां बन्नी लै ते खुराक व्यर्थ नेईं जंदी ऐ । ठीक रौह्ग जे खाद-पदार्थ बोरे गी भरियै डंडे दे स्हारे तलाऽ च केईं थाह्र बन्नी देओ ते बोरे च बरीक-बरीक सुराख करी देओ । एह् बी ध्यान रखना जरूरी ऐ जे बोरे द ज़्यादातर भाग पानी दे अंदर डुब्बी रवै ते किश भाग उप्पर रवै ।

आम परिस्थिति च प्रचलत पुराने तरीके कन्नै मच्छीपालन करने च जित्थें 500-600 कि ग्रा प्रति हेक्टयर हर साल द उत्पादन हासल होंदा ऐ , उत्थें आधुनिक विज्ञानिक पद्धति कन्नै मच्छी पालन करने कन्नै 3000 शा 5000 कि॰ ग्रा हेक्टर हर साल मच्छी उत्पादन करी सकदे आं । आंध्रप्रदेश च इस पद्धति कन्नै मच्छीपालन करियै 7000 कि॰ ग्रा हेक्टर हर साल तकर उत्पादन लैता जा करदा ऐ ।

मच्छी पालने आह्लें गी हर म्हीने जाल मारियै मच्छलियेँ दी बढ़ौतरी दा निरीक्षन करदे रौह्ना चाहिदा , जिस कन्नै मच्छलियेँ गी दित्ते जाने आह्ली पूरी खुराक दी मात्रा निरधार्त करने च असानी होग ते मच्छलियेँ दी बढ़ौतरी दर दा पता लग्गी जाह्ग । जेकर कोई बमारी लब्भै तां तौलें शा तौलें इलाज करना चाहिदा ऐ ।

3.04347826087
अपनी राऽ देओ

उप्पर दित्ते गेदे बिशे च जेकर तुंदी कोई प्रतिक्रिया/ राऽ ऐ तां किरपा करियै इत्थे पोस्ट करी लैओ

Enter the word
Back to top