घर / खेतीबाड़ी / फसल उत्पादन / जलवायु सरबंधी जानकारियां
सांझा करो
Views
  • राज्य Open for Edit

जलवायु सरबंधी जानकारियां

इस भाग च जलवायु सरबंधी बक्ख-बक्ख जंकरिऐँ गी शामल कीता गेआ ऐ ।

भारत दा खेतीबाड़ी जलवायविक बर्गीकरन

एह् भाग खेतीबाड़ी जलवायविक बर्गीकरन दी जानकारी गी ओह्दी उपयोगिता गी दिखदे होई दित्ता गेआ ऐ ।

नमीं जीव सरबंधी तनाऽ गी विकसत करना ते मती प्रभावी खेतीबाड़ी पद्धतियें गी विकसत करने आस्तै मती सारी खेतीबाड़ी जलवायकी दी जानकारी जरूरी ऐ । एह् नेई सिर्फ बरखा ते वायुमंडल तापमान गी बल्के विकिरन , वाश्न ते मृदा आर्द्रता गी सरबंधित करदी ऐ ।

खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तर केह् ऐ

इक “खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तर “ मुक्ख जलवायु दे संदर्भ च इक जमीन दी इकाई ऐ जेह्ड़ी इक निश्चत सीमा दे अंदर फसलें दियां किस्मां ते जोतने आह्ले आस्तै जरूरी होंदी ऐ । एह्दा उदेश्य प्राकृतिक संसाधनें ते पर्यावरन दी स्थिति जीआई प्रभावत कीते बगैर भोजर , फाइबर , चारा ते लकड़ी शा मिलने आह्ले ईंधन दी उपलब्धा गी बनाए रखना ते इ’नें खेत्तरिय संसाधनें द विज्ञानक प्रबंधन करना ऐ । इक खेतीबाड़ी परिस्थतिकी खेत्तर जलवायु मुक्ख तौर उप्पर मिट्टी दियां किस्मां , फसल दी उपज बरखा , तापमान ते पानी दा होना बनस्पति दे किस्में गी प्रभावित करने आह्ले कारकें दे संदर्भ च समझेआ जंदा ऐ । (एफएओ , 1983 ) खेतीबाड़ी जलवायवी जोजना दा लक्ष्य , प्राकृतिक ते माह्नू निर्मित दा होना दोऐ गै संसाधने दा मता विज्ञानिक रूप कन्नै इस्तेमाल करना ऐ ।

भारत दे खेतीबाड़ी खेत्तरें दी जोजना

329 लक्ख हेक्टर भुगोलक खेत्तर दे कन्नै देश खेतीबाड़ी जलवायु स्थितियें दी इक बड़ी मती संख्या गी प्रस्तुत करदा ऐ ।

देश च खेतीबाड़ी जलवायवी जानकारी प्रस्तुतिकरन आस्तै हून पूरे आंकड़े मजूद न ।

मिट्टी , जलवायु , भुगोलक ते प्रकर्तिक बनस्पति दे सरबंध च विज्ञानिक आधार उप्पर वृहद स्तर दी योजना निर्मान आस्तै नेकां प्रयास कीते गेदे न । एह् इस चाल्लीं न ।

  • जोजना आयोग आसेआ निर्धारत खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तर
  • राष्ट्रीय खेतीबाड़ी अनुसंधान परिजोजना ते तैह्त खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तर (NARP)
  • मृदा सर्वेक्षन ते जमीन इस्तेमाल जोजना राष्ट्रीय ब्यूरो आसेआ निर्धारित खेतीबाड़ी परसीयतीक खेत्तर (NBSS ते LUP) राष्ट्रीय खेतीबाड़ी अनुसंधान परियोजना (पी . आर . ए . एन )

परसीयतीक खेत्तर (NBSS ते LUP) राष्ट्रीय खेतीबाड़ी अनुसंधान परियोजना (पी . आर . ए . एन ) दे अधीन भारत दे खेतीबाड़ी जलवायविक खेत्तरें दे चित्रन बर्तमान च स्थल विशिश्ट अनुसंसाधन गी बढ़ावा देना ते खेतीबाड़ी उत्पादन बधाने आस्तै नीतियां दे विकास दे उदेश्य कन्नै खेतीबाड़ी जलवायविक खेत्तरें दी पंछान गी बड़ी मती प्रेरना मिली ऐ । मति ते ठीक खेतीबाड़ी गतिबिधियेँ दियें जोजनाएँ दे उदेश्य कन्नै हर इक खेत्तर (जोजना आयोग आसेआ प्रस्तावित 15 संसाधन विकास खेत्तर ) जीआई एन ए आर पी आर पी जोजना दे अधीन म्रदा , जलवायु , तापमान , बरखा , ते बाकी होर खेतीबाड़ी मौसम विज्ञान लक्षनें दे आधार उप्पर उप- खेत्तरें च बंडेया गेआ ऐ ।

हर इक राज्य दे ब्रहत अनुसंधान समीक्षा उप्पर आधारित एन ए आर पी दे अधीन भारत च कुल 127 खेतीबाड़ी जलवायविक खेत्तर पंछाने गे न । खेतत्रीय परिसीमां दस्सदे बेलै हर राज्य दे भू-आक्र्तक मंडलें , ओह्दी बरखा पद्धति मृदा दियेँ किस्में , संचाई आह्ले पानी दा होना , बर्तमान शस्य पद्धति ते प्रशासनिक एककें गी इस चाल्ली बचारार्थ लैता गेआ ऐ जे खेत्तर च प्राचलें उप्पर थोह्डी मती गै बक्खरापन होऐ । एन ए आर पी दे खेत्तरियें परिसीमा दा चित्रन ज्यादतर उप्पर जिलें ते किश मामलें च तसीलें /बलाकें जां उपमंडले दे रूप च बी पूरा बचार्राथ लैता गेआ ऐ ।

जोजना आयोग आसेआ दित्ते गेदे खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तर सतमीं जोजना दे नियोजन लक्षयेँ दी महयाविधि समीक्षा दा इक परिनाम दे रूप च जोजना आयोग ने प्राकृतिक भूगोल , मिट्टी भू-विज्ञानक संरचना , संचाई द विकास ते खेतीबाड़ी आस्तै खनिज संसाधनें दी जोजना जलवायु पैटर्न अग्गें दी रननीति दे विकास आस्तै फसल दे आधार उप्पर देश गी पंदरा (15) व्यापक खेतीबाड़ी जलवायु खेतरें च बंड़ेआ ऐ । चौह्दां (14) खेत्तर मुक्ख जमीन कन्नै सरबंधत हे ते बाकी इक बंगाल दी खाड़ी ते अरब सागर दे द्वीप च हा ।

इं’दा मुक्ख उदेश्य तकनीकी खेतीबाड़ी गल्लें उप्पर अधारत नीति दा विकास कारियै राज्य ते राष्ट्रीय जोजनाएँ दे कन्नै खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तरें गी एकीक्रत करने आस्तै कीता गेआ हा । खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तरिय जोजना च अग्गें खेतीबाड़ी परिस्थितिकी मापदंड दे आधार उप्पर इ’नें खेतरें दा खेत्तरिय विभाजन संभव होई पाया ।

मृदा सर्वेक्षन ते जमीन उपयोग जोजना राष्ट्रीय ब्यूरो आसेआ निर्धारित खेतीबाड़ी परिस्थितिक खेत्तरें ( NBSS ते Lup)

मृदा सर्वेक्षन ते जमीन इस्तेमाल जोजना राष्ट्रीय ब्यूरो आसेआ निर्धारित खेतीबाड़ी परिस्थितिक खेत्तर (NBSS ते LUP ) प्रभावी बरखा मिट्टी समूह जिलें दी सीमा गी समायोजित कारियै खेत्तरें दी इक घट्ट शा घट्ट संख्या दे कन्नै दर्शाइयै 20 खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तरें दे कन्नै सामने आया । बाद च सारे 20 खेतीबाड़ी जलवायु जोन्स 60 उपखेत्तरें च बंडे गे ।

  • पच्छमी हिमालय
  • पच्छमी मदान , कच्छ ते कठियावाड प्रायद्वीप दा हिस्सा
  • दक्कन पठार
  • उत्तरी मदान ते उच्चि भूमि समेत अरावली
  • केंदिरीय मालवा उच्च भूमि , गुजरात दे मदान ते कठियावाड प्रायदीप
  • दक्कन पठार , गर्भ अद्धा खुश्क ईको खेत्तर
  • डेक्कन (तेलेंगना) पठार ते पूर्वी घाट
  • पूर्वी घाट , तमिल नाडु दे पठार ते डेक्कन (कर्नाटक )
  • उत्तरी सादा, गर्म उप आर्द्र (सूक्खा ) ईको खेत्तर
  • केंदिरीय मालवा उच्च भूमि , (मालवा । बुंदेलखंड ते पूर्वी सतपुड़ा )
  • पूर्वी पठार (छत्तीसगढ़ ), गर्म उप आर्द्र घाट
  • पूर्वी (छोटानागपुर) पठार ते पूर्वी घाट
  • पूर्वी सादा
  • पच्छमी हिमालय
  • बंगाल ते असाम दे मदान
  • पूर्वी हिमालय
  • उत्तर पूर्वी हिल्स (पूर्वचल)
  • पूर्वी तटिय सादा
  • पच्छमी घाट ते तटीय घाट
  • अंडमान निकोबार ते लक्षदीप दे दीप

स्तोत्र : खेतीबाड़ी मौसम विज्ञान विभाग , भारत सरकार

3.4
अपनी राऽ देओ

उप्पर दित्ते गेदे बिशे च जेकर तुंदी कोई प्रतिक्रिया/ राऽ ऐ तां किरपा करियै इत्थे पोस्ट करी लैओ

Enter the word
Back to top