सांझा करो
Views
  • राज्य Open for Edit

आधार कार्ड कीह्

इस खंड च आधार कार्ड दियां खासयितां दस्सियां गेइयां न।

आधार कार्ड दियां खासयितां

  • सार्वभौमिकता, एह् जकीनी ऐ जे आधार गी समें कन्नै पूरे देशै च सेवा प्रदाताएं आसेआ मान्य ते मंजूर कीता जाह्​ग।
  • हर इक बसनीक आधार संख्या लेई जोगता रखदा ऐ।
  • संख्या दे फलस्वरूप सार्वभौमिक पंछान अवसंरचना निर्मित होग जिस पर पूरे देश च पंजीयक ते अजेंसी उं’दी पंछान अधारत ऐप्लिकेशनें दा निर्माण करी सकदे न।
  • भारती विशिष्ट पंछान प्राधिकरण, (भा.वि.प.प्रा.) आधार संख्या लेई बसनीकें गी नामांकत करने लेई पूरे देश दे बक्ख-बक्ख पंजीयकें कन्नै सांझेदारी करग, ऐसे पंजीयक राज्य सरकारें, राज्य-सार्वजनिक खेत्तर दियें इकाइयें, बैंक, टेलीकाम कंपनियें बगैरा गी शामल करी सकदे न। एह् पंजीयक अग्गै बसनीकें गी आधार च नामांकत करने लेई नामांकन अजेंसियों कन्नै भागीदारी करी सकदे न।
  • आधार सरकारी ते निजी अजेंसियें ते बसनीकें मझाटै भरोसे च बढ़ौतरी जकीनी करग। इक बार बसनीकें दा आधार लेई नामांकन होंदे गै सेवा प्रदाता गी सेवा प्रदान करने थमां पैह्​ले के.वाई.आर. सरबंधी दस्तावेजें दी जांच जनेही समस्या दा सामना नेईं करना होग। ओह् हून बसनीकें गी बिना पंछान दस्तावेजें दे सेवां देने थमां इंकार नेईं करी सकदे न।
  • बसनीकें गी बी बार- बार दस्तावेजें राहें पंछान उपलब्ध करोआने दी परेशानी नेईं होग। जदूं बी ओह् केईं सेवां जि’यां बैंक च खाता खलोआने, पासपोर्ट जां ड्राइविंग लाइसेंस बनाने दी लोड़ मसूस करङन, आधार संख्या पर्याप्त होग।
  • पंछान दे स्पश्ट सबूत प्रदान करियै, आधार, गरीबें ते दलितें गी सेवां जि’यां औपचारिक बैंकिंग प्रणाली ते सरकारी ते निजी खेत्तर दे प्रतिश्ठानें दी होर केईं सेवाएं दा आसानी कन्नै बरतून करने लेई मौक प्रदान करियै सशक्त बनांदा ऐ।
  • भा.वि.प.प्रा. दा केंदरीकृत प्रौद्योगिक अवसंरचना 'कदें बी, कुतै बी, कुसै बी चाल्ली' प्रमाणीकरण गी समर्थ करग। इस्सै चाल्ली आधार प्रवासियें गी बी पंछान दी गतिशीलता प्रदान करग।
  • आधार प्रमाणीकरण सजीव आनलाइन ते आफलाइन दोनें तरीके कन्नै कीता जाई सकदा ऐ।
  • बसनीकें गी दूर थमां अपनी पंछान स्थापत करने लेई सेलफोन/लैण्ड लाइन कनेक्शन सजीव प्रमाणीकरण दी मंजूरी प्रदान करग।
  • सजीव आधार कन्नै जुड़ी दी पंछान सत्यापन ग्रांई ते गरीबें गी उ’यै नेहा लचीलापन उपलब्ध करोआग जिस चाल्ली शैह्​री अमीर इसलै अपनी पंछान सत्यापत करदे न ते सेवां जि’यां कि बैंकिंग ते होर दी बरतून करदे न।
  • आधार, नामांकन पूर्व उचत सत्यापन दी बी मंग करदा ऐ, पर हर इक माह्​नू गी इस च शामल कीता जाना जकीनी ऐ।
  • आधार डाटाबेस च इस कन्नै जुड़ीं समस्याएं गी रोकने लेई भा.वि.प.प्रा. ने बसनीकें गी जनसांख्यिकी ते बायोमैट्रिक जानकारियें दे उचत सत्यापन कन्नै अपने डाटाबेस च नामांकत करने दी योजना बनाई ऐ। जेह्​ड़ी एह् जकीनी करग जे संग्रहत आंकड़े कार्यक्रम दे शुरू थमां गै स्हेई न। हालांकि मते सारे दलित ते गरीब लोकें कोल पंछान सरबंधी दस्तावेजें दी घाट रौंह्​दी ऐ ते आधार उ’नेंगी अपनी पंछान साबित करने दा पैह्​ला रूप होई सकदा ऐ।
  • भा.वि.प.प्रा. एह् जकीनी करग जे के.वाई.आर. दा मानक गरीबें दे नामांकन च बाधा नेईं बनै इस लिये परिचे-दाता प्रणाली मानकें अनुसार विकसित कीती गेई ऐ जिं’दे कोल दस्तावेजें दी कमी ऐ।
  • इस प्रणाली राहें अधिकृत माह्​नू (परिचे-दाता) जिसदे कोल पैह्​ले थमां गै आधार ऐ, उ’नें बसनीकें दा जिं’दे कोल कोई पंछान सरबंधी दस्तावेज उपलब्ध नेईं ऐ, परिचे देई सकदा ऐ तां जे ओह् अपना आधार हासल करी सकै।

स्त्रोत : भारती विशिष्ट पंछान प्राधिकरण, भारत सरकार

2.92307692308
अपनी राऽ देओ

उप्पर दित्ते गेदे बिशे च जेकर तुंदी कोई प्रतिक्रिया/ राऽ ऐ तां किरपा करियै इत्थे पोस्ट करी लैओ

Enter the word
Back to top