घर / ई-शासनम् / सूचना दा अधिकार / बार-बार पुच्छे जाने आह्​ले सोआल
सांझा करो
Views
  • राज्य Open for Edit

बार-बार पुच्छे जाने आह्​ले सोआल

इस खंड च बार-बार पुच्छे जाने आह्​ले सोआल सरबंधत जानकारी गी पेश कीता गेआ ऐ।

एह् कदूं थमां लागू होआ?

एह् 12 अक्तूबर, 2005 गी लागू होआ (15 जून, 2005 गी इसदे कनून बनने दे 120में दिन)। इसदे किश प्रावधान फौरी प्रभाव कन्नै लागू कीते गे यानि लोक प्राधिकारियें दी बाध्यता [एस. 4(1)], लोक सूचना अधिकारियें ते स्हायक लोक सूचना अधिकारियों दा उप-नांऽ [एस. 5(1)], केंदरी सूचना आयोग दा गठन, (एस. 12 व 13), राज्य सूचना आयोग दा गठन (एस. 15 व 16), तपाश/जांच अजेंसी ते सुरक्षा संगठनें पर अधिनियम दा लागू नेईं होना (एस. 24) ते इस अधिनियम दे प्रावधानें गी लागू करने लेई कनून बनाने दा अधिकार।

सूचना दा केह् मतलब ऐ?

सूचना दा मतलब ऐ- रिकार्ड, दस्तावेज, ज्ञापन, ई-मेल, विचार, सलाह्, प्रेस विज्ञप्तियां, परिपत्र, आदेश, लाग पुस्तिकां, ठेके, टिप्पणियां, पत्तर, उदाहरण, नमूने, डेटा समग्गरी सनें कोई बी समग्गरी, जेह्​ड़ी कुसै बी रूप च उपलब्ध होए। कन्नै गै, ओह् सूचना जेह्​ड़ी कुसी बी निजी विभाग कन्नै सरबंधत होए, कुसै लोक प्राधिकारी आसेआ उस बेल्लै प्रचलत कुसै होर कनून दे अंतर्गत हासल कीती जाई सकदी ऐ, बशर्तें कि उस च फाईल नोटिंग शामिल नेईं होए। (एस.-2 (एफ))

सूचना अधिकार दा अर्थ

इसदे अंतर्गत एह्​कड़ियां चीजां औंदियां न-

  • कारजें, दस्तावेज़ें, रिकार्डें दा निरीक्षण,
  • दस्तावेज़ें जां रिकार्डें दी प्रस्तावना/सारांश, नोट्स ते प्रमाणत कापियां हासल करना
  • समग्गरी दा प्रमाणत नमूने लैना
  • प्रिंट आउट, डिस्क, फ्लापी, टेपें, वीडियो कैसेटें दे रूप च जां कोई होर ईलेक्ट्रानिक रूप च जानकारी हासल करना (एस- 2(ज़े))
अधिकारी ते उं’दे कर्त्तब्ब

लोक अधिकारी दे कर्त्तब्ब

  • इस कनून दे लागू होने दे 120 दिन अंदर एह्​कड़ियां सूचना प्रकाशत करोआना जरूरी होग-
  • अपने संगठनें, कम्म-काजें ते कर्त्तब्ब दे ब्योरे।
  • अधिकारियें ते कर्मचारियें दे अधिकार ते कर्त्तब्ब।
  • अपने निरणा लैने दे प्रक्रिया च अपनाई गेई विधि, पर्यवेक्षण ते ज़िम्मेदारी दी प्रक्रिया सनें।
  • अपने क्रियाकलापें दा निर्वाह करने लेई इं’दे आसेआ निर्धारित मापदंड।
  • अपने क्रियाकलापें दा निर्वाह करने लेई इं’दे कर्मचारियें आसेआ बरते गेदे नियम, विनियम, अनुदेश, मापदंड ते रिकार्ड।
  • इं’दे आसेआ धारित जां इं’दे नियंत्रण दे अंतर्गत दस्तावेज़ें दी कोटियों दा ब्योरा।
  • इं’दे आसेआ गठत दो जां मते माह्​नुयें कन्नै युक्त बोर्ड, परिशद, समिति ते होर निकायें दे ब्योरे। इसदे अलावा, ऐसे निकायें च होने आह्​ली बैठक दी जानकारी आम जनता दी पौंह्​च च ऐ जां नेईं।
  • इसदे अधिकारियें ते कर्मचारियें दी डायरेक्टरी।
  • इसदे हर इक अधिकारियें ते कर्मचारियें आसेआ हासल कीती जाने आह्​ली माह्​बार तनख्वाह्, इसदे विनियमें दे अंतर्गत दित्ते जाने आह्​ले हरजाने दी पद्धति सनें।
  • इसदे आसेआ संपादत सब्भै योजनां, प्रस्तावित खर्च ते प्रतिवेदन सनें सभनें दा उल्लेख करदे होई हर इक बिभाग गी दित्ते गेदे बजट दा ब्योरा।
  • सब्सिडी कार्यक्रमें दी अमलावारी दी विधि, दित्ती गेई रकम ते ऐसे कार्यक्रमें दे ब्योरे ते लाह् हासल करने दी संख्या गी मलाइयै।
  • इसदे आसेआ दित्ती जाने आह्​ली रियायत, मंजूरियें जां प्राधिकारियें गी हासल करने आह्​लें दा ब्योरा।
  • इं’दे कोल उपलब्ध जां इं’दे आसेआ धारित सूचनाएं दा ब्योरा, जिसी इलेक्ट्रानिक रूप च निक्का रूप दित्ता गेआ होए।
  • सूचना हासल करने लेई नागरकें कोल उपलब्ध स्हूलतें दा ब्योरा, जनता दी बरतून लेई लाइब्रेरी जां पठन कक्ष दी कार्यावधि दा ब्योरा, जिसदी बवस्था आम जनता लेई कीती गेई होए।
  • जन सूचना अधिकारियें दे नांऽ, पदनांऽ ते होर ब्योरे (एस. 4 (1)(बी))। लोक प्राधिकारी दा केह् मतलब ऐ-

इसदा अर्थ ऐ कोई बी स्थापत जां गठत प्राधिकारी जां निकाय जां स्वशासी संस्थान [एस-2(एच)] जिसदा गठन एह्​कड़े ढंगै कन्नै होआ होए-

  • संविधान आसेआ जां उसदे अंतर्गत
  • संसद आसेआ बनाए गे कुसै कनून आसेआ
  • राज्य विधानमंडल आसेआ बनाए गे कुसै होर कनून आसेआ

उपयुक्त सरकार आसेआ जारी अधिसूचना जां आदेश आसेआ जिस च एह्​कड़ियां दो गल्लां शामल होन-

  • ओह् सरकार आसेआ धारित, नियंत्रत जां माली मदाद हासल होन।
  • उक्त सरकार थमां प्रतक्ख जां अप्रतक्ख ढंगै कन्नै धन हासल कीता होए।

लोक सूचना अधिकारी (पी.आई.ओ) कु’न न ?

पीआईओ ओह् अधिकारी न जि’नेंगी सभनें प्रशासनिक ईकाइयें जां दफ्तरें च लोक अधिकारियें आसेआ इस अधिनियम दे अंतर्गत नियुक्त कीता गेआ होए ते उसी एह् दायित्व दित्ता गेआ होए जे ओह् सूचना हासली लेई अर्ज करने आह्​ले सभनें नागरिकें गी सूचना प्रदान करङन। पीआईओ आसेआ अपने कर्त्तब्बें दे उचत निर्वाह लेई मंगी गेई होर अधिकारियें दी मदाद उ’नेंगी उपलब्ध करोआई जाह्​ग ते इस अधिनियम तहत कम्म करने आह्​ले होर अधिकारियें गी बी पीआईओ दे रूप च मन्नेआ जाह्​ग।

लोक सूचना अधिकारी (पीआईओ) दे केह् कम्म न ?

  • पीआईओ, सूचना पुच्छने आह्​ले माह्​नुयें कन्नै विनती आह्​ला व्यहार करङन ते जित्थै अर्जी लिखत रूप च नेईं कीती जाई सकदी, उत्थै उसी लिखत ढंगै कन्नै अर्जी करने लेई कुसै माह्​नू दी उचत स्हूलत उपलब्ध करोआनी होग।
  • जेकर अर्जी कीती गेई सूचना रोकी गेई होए जां इसदा सरबंध कुसै होर लोक अधिकारी कन्नै होए तां पीआईओ अर्जी गी, 5 दिनें अंदर सरबंधत लोक अधिकारी कोल भेजियै, फौरन आवेदक गी सूचत करग।
  • पीआईओ अपने कारजें दे उचत निर्वाह लेई कुसै होर अधिकारी दी मदाद लेई सकदे न।
  • पीआईओ सूचना लेई अर्जी हासली पर तौले थमां तौले परता देङन ते कुसै बी मामले च अनुरोध दे 30 दिनें अंदर निर्धारत मानदंड अनुसार फीस दे भुगतान पर जां ते सूचना प्रदान करन जां एस-8 जां एस-9 च निर्दिश्ट कुसै कारण दे अधार पर अर्जी रद्द करी देन।
  • जित्थै सूचना दी अर्जी माह्​नू दी ज़िंदगी जां सुतैंतरता दी चैंता लेई कीती गेई होए, तां अर्जी दी तरीक थमां 48 घैंटें अंदर सूचना उपलब्ध करोआनी होग।
  • जेकर लोक सूचना अधिकारी निर्दिश्ट अवधि अंदर अर्जी पर निरणा देने च असफल रौंह्​दा ऐ तां उसी अर्जी गी ठुकराने दा अधिकार होग।

लोक सूचना अधिकारी आसेआ अर्जी गी रद्द करने दी स्थिति च ओह् आवेदक गी एह्​कड़ियां सूचना देन -

  • रद्द करने दे कारण
  • रद्द करने दी अवधि अंदर अपील करने दी पैह्​ल देन, ते
  • अपील कीते जाने आह्​ले अधिकार दे ब्योरे।

लोक सूचना अधिकारी गी सूचना ऐसे रूप च उपलब्ध करोआनी होग जिस च ओह् मंगी गेई होए, नेईं ते इस कन्नै लोक अधिकारी दे संसाधनें दी माड़ी बरतून होग जां इस कन्नै रिकार्ड दी सुरक्षा जां सांभ-सम्हाल गी नुकसान पजाने दी संभावना रौह्​ग।

जेकर सूचना दे आंशिक बरतून दी मंजूरी दित्ती गेई होए तां लोक सूचना अधिकारी आवेदक गी एह् सूचत करदे होई इक सूचना देनी होग जे-

  • सूचना दी गंभीरता करियै आवेदन कीते गेदे रिकार्ड दे मात्तर आंशिक भाग गी उपलब्ध करोआया गेआ ऐ
  • कुसै बी समग्गरी पर उपलब्ध जानकारी ते सत्यता दे सोआल सनें होर कोई समग्गरी दी जानकारी उपलब्ध करोआना जिस पर ओह् निरणा अधारत होए
  • निरणा देने आह्​ले माह्​नू दा नांऽ ते पदनांऽ
  • हासल फीस दा ब्योरा ते फीस दी रकम जे​ह्​ड़ी आवेदक गी जमा करनी ऐ
  • सूचना दे अंश गी नेईं दस्सने दे सन्दर्भ च, निरणे दी समीक्षा दे सरबंध च उं’दे अधिकार ते लैती गेई फीस दी रकम जां बरतून दे रूप दी जानकारी।

जेकर मंगी गेई सूचना त्रिये पक्ख आसेआ दित्ती जानी ऐ जां त्रिये पक्ख आसेआ उसी गुज्झा समझेआ जा करदा ऐ, तां लोक सूचना अधिकारी अर्जी हासली थमां 5 दिनें अंदर त्रिये पक्ख गी लिखत सूचना देग ते उसदा पक्ख सुनग त्री पार्टी गी ऐसी सूचना हासली दे 10 दिनें अंदर लोक सूचना अधिकारी सामनै अपना प्रतिवेदन देना।

उपलब्ध सूचनां

सार्वजनिक करने लेई केह् नेईं ऐ ?

एह्​कड़ियें सूचनाएं गी आम जनता गी उपलब्ध करोआने दी मनाही ऐ (एस-8)-

  1. ऐसियां सूचना सार्वजनिक करना जिस कन्नै भारत दी सुतैंतरता ते अखंडता, राज्य दी सुरक्षा, कार्य योज़ना, वैज्ञानिक जां आर्थिक हितें, विदेशें कन्नै सरबंधें पर उल्ट प्रभाऽ पौंदे होन जां अपराध लेई उत्तेजित करदियां होन।
  2. जिसी कुसै बी अदालत जां खंडपीठ आसेआ प्रकाशत कीते जाने थमां रोकेआ गेआ ऐ जां जिसदे जाह्​र होने पर अदालत दा उल्लंघन होई सकदा ऐ।
  3. जिसदे जाह्​र होने पर संसद जां राज्य विधानसभा दे विशेश अधिकार प्रभावत होंदे होन
  4. तजारती छपैल, बपार छपैल जां बौद्धिक संपदा कन्नै सरबंधत सूचना, जिसदे प्रकाशन कन्नै त्रिये पक्ख दे मकाबले दे स्तर गी नुकसान पजाने दियां संभावना होन, जदूं तकर जे समर्थ अधिकरी इस गल्लै कन्नै संतुश्ट नेईं होई जंदा जे ऐसियें सूचनाएं दा प्रकाशन जनहित च ऐ
  5. माह्​नू गी उं’दे न्यासी सरबंध च उपलब्ध जानकारी, जदूं तगर जे समर्थ प्राधिकरी संतुश्ट नेईं होई जंदे जे ऐसी सूचना दा प्रदर्शन जनहित च ऐ
  6. ऐसी सूचना जेह्​ड़ी विदेशी सरकार थमां विश्वास च हासल कीती गेई होए
  7. जिसदे प्रदर्शन कन्नै कुसै माह्​नू दी ज़िंदगी जां जिस्मानी सुरक्षा दा खतरा ऐ जां कनूनी अमलावारी जां सुरक्षा उद्देशें लेई विश्वास च दित्ती गेई सूचना जां मदाद
  8. सूचना जिस कन्नै अपराधी दी जांच करने जां उसी हिरासत च लैने जां उस पर मुकदमा चलाने च बाधा पैदा होई सकदी होए
  9. मंत्रिपरिशद, सचिवें ते होर अधिकारियें दे सलाह्-सूत्तर कन्नै सरबंधत मंत्रिमंडल दे दस्तावेज़
  10. ऐसी सूचना जेह्​ड़ी कुसै माह्​नू दी निजी जिंदगी कन्नै सरबंधत ऐ उसदा सरबंध कुसै नागरक हित कन्नै नेईं होए ते उसदे प्रकाशन कन्नै कुसै माह्​नू दी निजी जिंदगी दी निजता भंग होंदी होए
  11. उप्पर दित्ती गेदियें गल्लें थमां परे सूचना गी लोक सूचना अधिकारी उपलब्ध करोआने दी मंजूरी देई सकदे न।

क्या आंशिक प्रदर्शन दी मंजूरी ऐ ?

रिकार्ड दा सिर्फ उ’यै हिस्सा जेह्​ड़ा ऐसी कोई सूचना धारण नेईं करदा होए जिसदे प्रदर्शन पर रोक नेईं होए, तां लोक सूचना अधिकारी ऐसी सूचना दे प्रदर्शन दी मंजूरी देई सकदा ऐ। (एस-10)

इस थमां कुसी बाह्​र रक्खेआ गेआ ऐ ?

दूई अनुसूची च निर्दिश्ट केंदरी सतर्कता ते सुरक्षा एजेंसी जि’यां आईबी, रा (रीसर्च एंड एनालिसिस विंग), राज़स्व सतर्कता निदेशालय, केंदरी आर्थिक सतर्कता ब्यूरो, अमलावारी निदेशालय, नारकोटिक्स नियंत्रण ब्यूरो, उड्डयन अनुसंधान केंदर, विशेश सीमा बल, सीमा सुरक्षा बल, केंदरी रिजर्व पुलिस बल, भारत-तिब्बत सीमा पुलिस, केंदरी औद्योगिक सुरक्षा बल, राश्ट्री सुरक्षा गार्ड, असम राइफल्स, विशेश सेवा ब्यूरो, विशेश शाखा (सीआईडी), अंडमाम ते निकोबार अपराध शाखा- सीआईडी- सीबी, दादरा ते नगर हवेली ते विशेश शाखा, लक्षद्वीप पुलिस। राज्य सरकारें आसेआ अधिसूचना राहें निर्दिश्ट अजैंसियें गी बी बाह्​र रहक्खेआ गेआ ऐ। इस अधिनियम कन्नै इ’नें संगठनें गी छूट दित्ते जाने दे बावज़ूद एह् संगठन गुज्झ ते मनुक्खी अधिकारें दे उल्लंघन कन्नै सरबंधत आरोपों दे बारे च सूचना उपलब्ध करोआने लेई बाध्य होङन। इसदे अलावा, मनुक्खी अधिकारें दे उल्लंघन दे आरोप कन्नै सरबंधत सूचना केंदर जां राज्य सूचना आयोग दे अनुमोदन दे बाद दित्ती जाई सकदी ऐ। (एस-24)

सूचना हासल करने दी विधि

सूचना हासल करने लेई आवेदन दी प्रक्रिया

  • जन सूचना अधिकारी कोल जरूरी सूचना लेई लिखत रूप च जां इलेक्ट्रानिक माध्यम (ई-मेल) राहें आवेदन कीता जाई सकदा ऐ। अपना आवेदन अंग्रेज़ी, हिन्दी जां सरबंधत राज्य सरकार आसेआ मानता हासल भाशा च भरियै करो।
  • मंगी गेई सूचना लेई कारण दस्सना जरूरी नेईं ऐ।
  • राज्य जां केंदर सरकार आसेआ निर्धारत नियमानुसार आवेदन फीस दा भुगतान करो (गरीबी रेखा थमां हेठ औने आह्​ले वर्ग दे लोकें गी फीस नेईं जमा करोआनी ऐ)।

सूचना हासल करने लेई समें सीमा

  • आवेदन जमा करने दी तरीक थमां 30 दिनें अंदर।
  • जेकर सूचना कुसै माह्​नू दे जीवन ते सुतैंतरता कन्नै सरबंधत ऐ तां 48 घैंटे अंदर।
  • उप्पर दित्ते गेदे दोनें मामलें च 5 दिनें दा समय जोड़ेआ जा जेकर आवेदन, स्हायक लोक सूचना अधिकारी दे दफ्तर च जमा करोआई गेई होए।
  • जेकर कुसै मामले च त्रिये पक्ख दी हिस्सेदारी जां उसदी हाजरी जरूरी ऐ तां सूचना हासली दी समें-सीमा 40 दिन होग (बद्धो-बद्ध अवधि+ त्रिये पक्ख गी हाजर होने लेई दित्ता गेआ समां)।
  • निर्दिश्ट अवधि अंदर सूचना उपलब्ध करोआने च असफल रौह्​ने पर उसी सूचना देने थमां इंकार मन्नेआ जाह्​ग।

सूचना हासल करने लेई फीस

  • निर्धारत आवेदन फीस निश्चित रूप कन्नै तार्किक होनी चाहिदी।
  • सूचना लेई जेकर बाद्धू फीस दी लोड़ होए तां, आवेदक गी पूर्ण आंकलन ब्योरे कन्नै लिखत ढंगै कन्नै सूचत कीता जा।
  • जन सूचना अधिकारी आसेआ निर्धारत फीस दे बारे च पुनर्विचार लेई उचत अपीली प्राधिकार कन्नै आवेदन कीता जाई सकदा ऐ।
  • गरीबी रेखा थमां हेठ औने आह्​ले समुदाय दे लोकें थमां कोई फीस नेईं लैती जाह्​ग।
  • जेकर जन सूचना अधिकारी निर्धारत समें-सीमा अंदर सूचना उपलब्ध करोआने च असफल रौंह्​दे न तां आवेदक गी सूचना मुफ्त उपलब्ध करोआनी होग।
  • आवेदन रद्द करने दे केह् अधार होई सकदे न ?
  • जेकर इसदे अंतर्गत ऐसी सूचना मंगी जा करदी होए जिसी प्रदर्शन नेईं करने दी छूट होए। (एस-8)
  • जेकर एह् राज्य दे बजाय कुसै होर माह्​नू दे कापीराइट अधिकार दा उल्लंघन करदा होए। (एस-9)
  • सूचना दे अधिकार दी सफलता कन्नै जुड़े दे किश प्रेरक उदाहरणें गी पढ़ने लेई इत्थै क्लिक करो

स्रोत: rti.gov.in

सरबंधत स्रोत

  1. lawmin.nic.in
2.66666666667
अपनी राऽ देओ

उप्पर दित्ते गेदे बिशे च जेकर तुंदी कोई प्रतिक्रिया/ राऽ ऐ तां किरपा करियै इत्थे पोस्ट करी लैओ

Enter the word
Back to top