घर / ई-शासनम् / भारत च ई-शासन / राश्ट्रीय ई-शासन जोजना
सांझा करो
Views
  • राज्य Open for Edit

राश्ट्रीय ई-शासन जोजना

नागरिकें ते कम्म धंधा करने आह्लें गी शासकीय सेवाएं देने दे कम्मै च सुधार लाने दे उदेश्य कन्नै शुरू कीती गेई राश्ट्रीय ई-शासन जोजना हेठ लिखी दृश्टि आसेआ मार्ग दर्शित ऐ ।

राश्ट्रीय ई-शासन जोजना एक दृश्टीकोन

नागरिकें ते कम्म धंधा करने आह्लें गी शासकीय सेवाएं देने दे कम्मै च सुधार लाने दे उदेश्य कन्नै शुरू कीती गेई राश्ट्रीय ई-शासन जोजना हेठ लिखी दृश्टि आसेआ मार्ग दर्शित ऐ ।

“सारी सरकारी सेवाएं गी सार्वजनिक सेवा प्रदाता केंद्र दे माध्यम कन्नै आम आदमी तकर पुज्जना ते आम आदमी दी बुनियादी जरूरतें गी पूरा करने लेई ई’नें सेवाएं च कार्यकुशलता , पारदर्शिता ते विश्वसनियता पक्का करना”। एह् दृश्टि कथन शैल शासन गी पक्का करने आस्तै सरकार दी पैह्ल गी स्पश्ट रूप कन्नै दर्शांदा ऐ ।

पौंह्च : इस दृश्टि गी ग्रामीन जनता दी जरूरतें गी ध्यान च रखियै बनाया गेआ ऐ ।जरूरत समाज दे उ’नें तबकें तकर पुजज्ने दी कमी ज्नेह् कारनें करियै सरकार दी पौंह्च कन्नै लगभग बाह्र रेह् न ।

सांझा सेवा वितरन केंद्र : मजूदा समें च खास करियै दूर दराज दे खेतरें च रौह्ने आह्ले नागरिकें गी कुसै सरकारी विभाग जां ओह्दे स्थानीय कार्यालय थमां कोई सेवा लैने आस्तै लम्मी दूरी तैह् करनी पैंदी ऐ । नागरिक सेवाएं हासल करने च लोकें दा मता समां ते पैसा खर्च होंदा ऐ। इस समस्या दा निपटारा करने दे उदेश्य कन्नै राश्ट्रीय ई-शासन जोजना (NEGP) दे इस भाग दे रूप च हर छें ग्रांएं आस्तै इक कंप्यूटर ते इंटरनेट अधारत सांझा सेवा केंद्र (CSCs) दी स्थापना दी जोजना शुरू कीती गेई ऐ तांजे सारे लोक ई’नें सेवाएं दा लाऽ असानी कन्नै अपने नजदीकी केंद्र थमां हासल करी सकन । ई’नें सांझा सेवा केन्द्रें (CSCs) दा उदेश्य ऐ ‘कदें बी कुतै बी’ दे आधार उप्पर एकीक्रत आनलाइन सेवा प्रदान करना ।

शासन च सुधार आस्तै ई-शासन अपनाना :सूचना ते संचार प्रौद्योगिकी (ILT) दा उपयोग शासन गी नागरिकें तकर पजाने च मदद दित्ती ते अध्ययन दस्सदे न जे एह्दे कन्नै शासन च सुधार होआ ऐ । एह्दे कन्नै बक्ख-बक्ख शासकीय जोनाएं दी दिक्ख-दिक्ख ते उसगी लागू करना बे संभव होआ ऐ जेह्दे कन्नै शासन दी जवाबदेही ते पारदर्शिता च बढ़ौतरी होना दी उम्मीद ऐ । अजें तकर दे अनुभव इस गल्ला दी पुश्टी करै करदे न ।

नागरिकें दे जीवन दी गुनवत्ता च सुधार :ई-शासन घट्ट मुल्ल उप्पर नागरिकें केंद्रत सेवा प्रदान करने दे प्रावधान दे कन्नै इस लक्ष्य गी हासल करने च मदद करै करदा ऐ । ते एह्दे फलस्वरूप सेवाएं दी मंग ते ई’नेईं हासल करने च घट्ट समां लगग्ने कन्नै एह् मता सुविधा आह्ला साबत होऐ करदा ऐ ।

राश्ट्रीय ई-शासन जोजना दे कम्म काज दी रननीति

राश्ट्रीय ई-शासन जोजना (NEGP) आस्तै अपनाए जा करदे तरीके ते पद्धति च हेठ लिखे तत्व शामल न

समूहिक ढांचा :राश्ट्रीय ई-शासन जोजना (NEGP) दे कम्मकाज मसौदे च समूहिक ते सहायक सूचना प्रौद्योगिका ढांचा तयार करना शामल हा जि’यां कि – राज्यव्यापी एरिया नेटवर्क , राज्य आंकड़ा केंद्र , समूहिक सेवा केंद्र ते इलेक्ट्रानिक सेवा वितरन गेटवे जेह्ड़ें बल्लें- बल्लें विकसत कीते जा करदे न ।

शासन :इस कार्यक्रम च मानक ते नीतिगत मार्गदर्शक तयार करना , तकनीकी मदद देना , क्षमता निर्मानकार्य , अनुसंधान ते विकास शामल न । इलेक्ट्रानिकी ते सूचना प्रौद्योगिकी विभाग (Deity) स्वयं ते नेशनल इन्फार्मेटिक्स सैंटर (NIC), स्टैंडर्डीजेशन , टेस्टिंग एंड क्वालिटी सर्टिफिकेशन (STQC), सैंटर फार डेवलपमेंट आफ एडवान्स्ड कम्प्यूटिंग (C-Dac)। नेशनल इस्टीट्यूट फार स्मार्ट गवर्नेंस (NISG) बगैरा , ज्नेह् संस्थानें दा सशक्तिकरन करग तां जे एह् इ’नें भूमिकाएं गी प्रभावी तरीके कन्नै निभाई सकन ।

समूहिक पैह्ल विकेंद्रीक्र्त क्रियान्वयन : ई शासन गी जरूरी केंद्रीय पैह्ल दे जरिये बढ़ावा दित्ता जा करदा ऐ । बक्ख-बक्ख ई-शासन अनुप्रयोगें दी परस्पर – संचालकता दे उदेश्य गी हसल करी सकै ते सूचना प्रौद्योगिका ढांचे ते संसाधनें दा उपयोग पक्का होई सकै ।

सार्वजनिक – निजी भागीदारी (PPP) माडल : इसगी उत्थै अपनाया जा करदा ऐ जित्थें बी सुरक्षा पैहलुएं दी अनदेखी कीते बगैर संसाधने च बढ़ौतरी संभव होऐ ।

संपूर्नात्मक तत्व :एकीकरन गी सुचारू बनाने ते विरोधावास शा बचने आस्तै नागरिकें कम्मधंधा करने आह्ले ते धन आस्तै यूनिक आइडेंटिफिकेशन कोड़ गी अपनाइयै बढ़ावा दित्ता जा करदा ऐ ।

ई-क्रांति –सेवाएं द इलेक्ट्रानिक वितरन :

ई-क्रान्ति डिजिटल इंडिया पैह्ल दा इक जरूरी थम्म ऐ । सारी नमीं ते जारी ई-गवेर्नंस परियोजनाएं दे कन्नै गै मजूदा परिजोजनाएं दा निर्मान कीता जा करदा ऐ , जेह्ड़ियां हून ई-क्रांति दे हेठ दित्ते सिधांतें दा पालन करङन

  • रूपांतरन ते ना के अनुवाद
  • एकीक्रत सेवाएं ते ना के व्यक्तिगत सेवाएं
  • हर एम एम पी छ गवेर्नमेंट प्रोसेस रिइंजीनियरिंग दे मुक्ख सिद्धांतें दा पालन करना जरूरी
  • डिफ़ाल्ट रूप कन्नै क्लाउड
  • मोबाइल प्रथम
  • फास्ट ट्रैकिंग स्वीक्रति
  • जरूरी मानक ते प्रोटोकाल
  • भाशा स्थानीयकरन
  • राश्ट्रीय जी आई एस (भू-स्थानिक सूचना प्रनाली )
  • आई सी टी इन्फ्रास्ट्रक्चर
  • सुरक्षा ते इलेक्ट्रानिक डाटा संरक्षन ई-क्रांति दे तैह्त 44 मिशन मोड परिजोजनाएं , जेह्ड़ियां बक्ख-बक्ख चरनें च लागू होऐ कारदियां न ।मती जानकारी आस्तै मेह्रबानी करियै इत्थें किल्क करो ।

मिशन मोड परिजोजना

मिशन मोड परिजोजना (एम एम पी ) राश्ट्रीय ई-शासन जोजना दे तैह्त इक आजाद परिजोजना दे तौर उप्पर शुरू कीती गेई । एह् परिजोजना इलेक्ट्रानिक शासन दे बक्ख-बक्ख पैह्लुएं जि’यां के बैंकिंग , भूमि रिकार्ड जां कम्म धंधे टैक्स बगैरा उप्पर आधारत सेवाएं दा ध्यान राखियै बनाई गेई ऐ । राश्ट्रीय ई-शासन जोजना दी “मिशन मोड” परिजोजना स्पश्ट रूप कन्नै उदेश्य , व्यापकता ते कम्म-काज दी समें सीमा ते उपलब्धियेँ दे कन्नै-कन्नै मूल्यांकनीय परिनामें ते सेवा स्तरें गी परिभाशत करदी ऐ । राश्ट्रीय ई-शासन परिजोजनाएं 44 मिशन मोड परिजोजनाएं (एम एम पी – पैह्ले शा ) जो के राज्य , केंद्र जां एकीक्रत परिजोजनाएं दे रूप छ वर्गीक्रत कीती जाई सकदी ऐ ।

स्त्रोत : इलेक्ट्रानिकी ते सूचना प्रौद्योगिकी विभाग

सरबंधत स्त्रोत

1.राश्ट्रीय ई-शासन जोजना

2.7
अपनी राऽ देओ

उप्पर दित्ते गेदे बिशे च जेकर तुंदी कोई प्रतिक्रिया/ राऽ ऐ तां किरपा करियै इत्थे पोस्ट करी लैओ

Enter the word
Back to top