घर / ऊर्जा / ऊर्जा प्रौद्योगिकी / हाईड्रोजन : भविक्खी ऊर्जा
सांझा करो
Views
  • राज्य Open for Edit

हाईड्रोजन : भविक्खी ऊर्जा

इस हिस्से च ऊर्जा उत्पादन दे इक नमें स्त्रोत दे रुप च हाईड्रोजन दे उत्पादन, भंडारण ते बरतून गी लेइयै कीते जाने आह्​ली कोशिशें दी जानकारी दित्ती गेई ऐ।

परिचे

हाईड्रोजन-इक रंगहीन, गंधहीन गैस ऐ, जेह्​ड़ी चपासमीं प्रदूशण थमां मुक्‍त भविक्खी ऊर्जा दे रूप च दिक्खी जा करदी ऐ। गड्डियां ते बिजली उत्‍पादन खेत्तर च इसदे नमें प्रयोग पाये गे न। हाईड्रोजन कन्नै सभनें थमां बड्डा लाह् एह् ऐ जे इसलै उपलब्ध ईंधनें च प्रति इकाई द्रव्‍यमान ऊर्जा इस तत्‍व च सभनें थमां मती ऐ ते एह् जलने बाद उप-उत्‍पाद दे रूप च पानी दा उत्‍सर्जन करदा ऐ। इसलेई एह् न सिर्फ ऊर्जा क्षमता कन्नै युक्‍त ऐ बल्कि चपासम अनुकूल बी ऐ। असल च नमीं ते नवीनीकरण ऊर्जा मंत्रालय पिछले द’ऊं दहाकें थमां हाईड्रोजन ऊर्जा दे बक्ख-बक्ख पैह्​लुएं कन्नै सरबंधत बड्डे अनुसंधान, विकास ते प्रदर्शन (आरडीएंडडी) कार्यक्रम च मदाद देआ करदा ऐ। इसदे फलस्वरूप ब’रे 2005 च इक राश्ट्री हाईड्रोजन नीति त्यार कीती गेई, जिसदा उद्देश हाईड्रोजन ऊर्जा दे उत्‍पादन, भंडारण, परिवहन, सुरक्षा, बंड ते बरतून कन्नै सरबंधत विकास दे नमें आयाम उपलब्‍ध करोआना ऐ। हालांकि, हाईड्रोजन दे बरतून सरबंधी मौजूदा प्रौद्योगिकियें दी बद्धो-बद्ध बरतून ते उंदा बपारीकरण कीता जाना बाकी ऐ, पर इस सरबंध च कोशिशां शुरू करी दित्तियां गेइयां न।

हाईड्रोजन उत्‍पादन

हाईड्रोजन पृथ्‍वी पर सिर्फ रली-मिली अवस्‍था च पाया जंदा ऐ ते इसलेई इसदा उत्‍पादन इसदे यौगिकों दे अपघटन प्रक्रिया कन्नै होंदा ऐ। एह् इक ऐसी विधि ऐ जिस च ऊर्जा दी लोड़ होंदी ऐ। विश्‍व च 96 प्रतिशत हाईड्रोजन दा उत्‍पादन हाईड्रोकार्बन दी बरतून कन्नै कीता जा करदा ऐ। लगभग चार प्रतिशत हाईड्रोजन दा उत्‍पादन पानी दे विद्युत अपघटन राहें होंदा ऐ। तेल शोधक संयंत्र ते उर्वरक संयंत्र दो बड्डे खेत्तर न जेह्​ड़े भारत च हाईड्रोजन दे उत्‍पादक ते उपभोक्‍ता न। इसदा उत्‍पादन क्‍लोरो अल्‍कली उद्योग च उप उत्‍पाद दे रूप च होंदा ऐ।

हाईड्रोजन दा उत्‍पादन त्रै वर्गे कन्नै सरबंधत ऐ, जिस च पैह्​ला तापी विधि, दूआ बिजली अपघटन विधि ते प्रकाश अपघटन विधि ऐ। किश तापी विधियें च ऊर्जा संसाधनें दी जरूरत होंदी ऐ, जद् के होर च पानी जनेह् अभिकारकें कन्नै हाईड्रोजन दे उत्‍पादन लेई बंद रसैनक अभिक्रियाएं कन्नै रली-मिली रूप च उश्मा दी बरतून कीती जंदी ऐ। इस विधि गी तापी रसैनक विधि आखेआ जंदा ऐ। पर एह् तकनीक विकास दे शुरूआती अवस्‍था च अपनाई जंदी ऐ। उश्मा मिथेन पुनचक्रण, कोला गैसीकरण ते जैव मास गैसीकरण बी हाईड्रोजन उत्‍पादन दियां होर विधियां न। कोला ते जैव ईंधन दा लाह् एह् ऐ जे दोए मकामी संसाधन दे रूप च उपलब्‍ध रौंह्​दे न ते जैव ईंधन नवीकरणी संसाधन बी ऐ। बिजली अपघटन विधि च बिजली दी बरतून कन्नै पानी दा विघटन हाईड्रोजन ते आक्‍सीजन च होंदा ऐ ते जेकर बिजली संसाधन शुद्ध होए तां ग्रीन हाऊस गैसें दे उत्‍सर्जन च बी कमी औंदी ऐ।

हाईड्रोजन भंडारण

इस कन्नै सरबंधत तकनीकी दे बड्डे बपारीकरण दे नजरिये कन्नै परिवहन लेई हाईड्रोजन दा भंडारण सभनें तकनीकें चा चुनौतीपूर्ण तकनीक ऐ। गैसी अवस्‍था च भंडारण करने दा सभनें थमां आम तरीका सिलेंडर च उच्‍च दबाव पर रक्खना ऐ। हालांकि एह् सभनें थमां हल्‍का तत्‍व ऐ जिसी उच्‍च दाब दी लोड़ होंदी ऐ। इसी द्रव अवस्‍था च क्रायोजिनिक प्रणाली च रक्खेआ जंदा ऐ, पर इस च मती ऊर्जा दी लोड़ होंदी ऐ। इसी धात्विक हाईड्राइड, द्रव कार्बनिक हाईड्राइड, कार्बन सूक्ष्‍म संरचना ते रसैनक रूप च इसी ठोस अवस्‍था च बी रक्खेआ जाई सकदा ऐ। इस खेत्तर च नमीं ते नवीकरणी ऊर्जा मंत्रालय अनुसंधान ते विकास सरबंधी परियोजनाएं च मदद करै करदी ऐ।

बरतून

उद्योगें च रसैनक पदार्थ दे रूप च बरतून दे अलावा इसी गड्डियें च ईंधन दे तौर पर बी बरतेआ जाई सकदा ऐ। अंदरूनी ज्‍वलन इंजनें (Internal combustion engines) ते ईंधन सैलें राहें बिजली उत्‍पादन लेई बी इसदी बरतून कीती जाई सकदी ऐ। हाईड्रोजन दे खेत्तर च देश च अंदरूनी ज्‍वलन इंजनें, हाईड्रोजन युक्‍त सीएनजी ते डीजल दे बरतून लेई अनुसंधान ते विकास परियोजनाएं ते हाईड्रोजन ईंधन कन्नै चलने आह्​लियें गड्डियें दा विकास कीता जा करदा ऐ। हाइड्रोजन ईंधन आह्​ली मोटरसाइकिलें ते तिपहिया स्‍कूटरें दा निर्माण ते प्रदर्शन कीता गेआ ऐ। हाईड्रोजन ईंधन दी बरतून आह्​ले उत्‍प्रेरक ज्‍वलन कुकर (Catalytic combustion cooker) बी विकास कीता गेआ ऐ। बनारस हिंदू विश्‍वविद्यालय ने बपारक लाह् आह्​ली मोटरसाइकिलें ते तिपहिया गड्डियें च सुधार कीता ऐ, तां जे ओह् हाईड्रोजन ईंधन कन्नै चलाए जान सकन। गड्डियें लेई हाईड्रोजन युक्‍त सीएनजी उपलब्‍ध कराने लेई नमीं दिल्‍ली च द्वारका च एचसीएनजी स्‍टेशन खोलेआ गेआ ऐ, जिस लेई मंत्रालय ने आंशिक माली मदाद बी दित्ती ऐ। प्रदर्शन ते परीक्षण गड्डियें लेई इस स्‍टेशन थमां बीह् प्रतिशत

तगर हाईड्रोजन युक्‍त सीएनजी गैस दित्ती जंदी ऐ। हाईड्रोजन युक्‍त सीएनजी (एच सीएनजी) गी किश किस्‍म दियें गड्डियें-बस्सें, कारें ते तिपहिया वाहनें च ईंधन तौर पर इस्‍तेमाल करने लेई विकास-सैह्-प्रदर्शन परियोजना गी बी लागू कीता जा करदा ऐ। बनारस हिंदू विश्‍वविद्यालय ते भारती प्रौद्योगिकी संस्‍थान-आईआईटी, दिल्‍ली, हाईड्रोजन ईंधन कन्नै चलने आह्​ला जनरेटर बी विकसत करै करदे न।

हाइड्रोजन ऊर्जा दी इक ते बरतून ईंधन सैल दे रूप च ऐ, जेह्​ड़ा इक इलेक्‍ट्रोकैमिकल उपकरण ऐ, जिस कन्नै हाईड्रोजन दी रसैनक ऊर्जा गी बिना ज्‍वलन दे सिद्धे बिजली च बदलेआ जाई सकदा ऐ। बिजली उत्‍पादन दी एह् इक साफ ते प्रभावी प्रणाली ऐ। इसदी बरतून यूपीएस प्रणालियें यानी बेरोक-टोक बिजली आपूर्ति आह्‌ली प्रणालियें च बैटरियें ते डीजल जनरेटरें दे थाह्​र पर कीता जाई सकदा ऐ। गड्डियें ते बिजली उत्‍पादन च ईंधन सैलें दी लोड़ गी दिखदे होई दुनियाभर च केईं संगठन इस खेत्तर च अनुसंधान ते विकास कारज करै करदे न। इ’नें ईंधन सैलें गी इक थाह्​र थमां दुये थाह्​र लेई जाइयै बरतून करने दे बारे च बी प्रयोग होआ करदे न। इस बेल्लै ईंधन सैल गी लागत घट्ट करने ते इसदी बरतून दी अवधि गी बढ़ाने पर ध्‍यान दित्ता जा करदा ऐ। नमीं ते नवीकरणी ऊर्जा मंत्रालय दे ईंधन सैल कार्यक्रम दा उद्देश बक्ख-बक्ख किस्म दे ईंधन सैलें लेई अनुसंधान ते विकास गतिविधियें गी मदाद देना ऐ।

स्त्रोत : पत्र सूचना कार्यालय,प्रेस इंफोर्मेशेन ब्यूरो(पीआईबी), नमीं ते नवीकरणी ऊर्जा मंत्रालय

2.55555555556
अपनी राऽ देओ

उप्पर दित्ते गेदे बिशे च जेकर तुंदी कोई प्रतिक्रिया/ राऽ ऐ तां किरपा करियै इत्थे पोस्ट करी लैओ

Enter the word
Back to top