घर / सेहत / बमारी- लच्छन ते उपाऽ / जोड़ ते हड्डी रोग
सांझा करो
Views
  • राज्य Open for Edit

जोड़ ते हड्डी रोग

इस भाग च संधि क्षोथ (अर्थराइटिस) , गोड्डे दी पीड़ , सरविकल स्पांडिलाइसिस , गैंठिया संधि शोथ ते गैंठिया दे बारे च जानकारी उपलब्ध ऐ ।

संधि शोथ (अर्थराइटिस)

संधि शोथ दा मतलब ऐ “जोड़ च दर्द “। एह् उ’नें 170 जोड़े दी बमारी दे सरबंध च ऐ जित्थें जोड़ें च दर्द , आकड़न जां सोज़ (वर्तमान च होऐ जां नेईं ) आई जंदी ऐ ।

आमतौर : 3 चाल्लीं दे संधि शोथ (अर्थराइटिस) होंदे न :

  1. गैंठिया ग्रस्त
  2. हड्डी संधि शोथ ( अर्थराइटिस)
  3. 3 गैंठिया

संधि शोथ ( अर्थराइटिस) दे लच्छन

  • जोड़े च पीड़ जां नरमी ( पीड़ जां दबाव ) जेह्दे कन्नै चलड़े बेलै , कुर्सी थमां उठदे बेलै , लिखदे बेलै , टाइप करदे बेलै , कुसै चीज गी फड़दे बेलै , सब्जियां कट्टदे बेलै बगैरा जी’यां हिलने –जुलने दी क्रियां च स्थिति मती बिगड़ी जंदी ऐ ।
  • शोथ जेह्ड़ा दी सोज़िश , आकड़न , लाल होई जाने ते जां गर्मी कन्नै सामनै औंदा ऐ ।
  • चेचेतौर उप्पर बड्ड्लै –बड्ड्लै आकड़न
  • जोड़ें दे लचीलेपन च घाट
  • जोड़ें गी मता हिला-झुला नेईं सकना
  • जोड़ें दी विकृति
  • भर घटना ते थकावट
  • अविशिश्ट बुखार
  • खड़-खड़ना (चलदे बेलै संधि शोथ आह्ले जोड़ें दी अवाज़ )

संधि शोथ दी बमारी द प्रबंधन किस चाल्लीं करचै ?

  • संधि शोथ (अर्थराइटिस) दी बमारी दी विवेकपूर्न प्रबंधन ते प्रभावी इलाज कन्नै शैल चाल्लीं जीवन यापन कीता जाई सकदा ऐ ।
  • संधि शोथ (अर्थराइटिस) दी बमारी दे विशे च जानकारी रखियै ते ओह्दे प्रबंधन कन्नै विकृति ते होर जटिलता कन्नै निपटेआ जाई सकदा ऐ ।
  • खून दी जांच ते एक्स-रे दी मदद कन्नै संधि शोथ ( अर्थराइटिस) दी दिक्ख-रिक्ख कीती जाई सकदी ऐ ।
  • डाक्टर दी सलाह दे अनुसार दोआइयां बेलै सिर लैओ ।
  • सेह्तमंद खाना खाओ ।
  • डाक्टर आसेआ दित्ते गे निर्देशें दे अनुसार रोज कसरत करो ।
  • रोज कसरत करो ते तनाऽ मुक्त रौंह्ने दी तकनीक अपनाओ , बेलै सिर आराम करो ते तनाऽ शा मुक्त रवो ।
  • दोआईयेँ दे इस्तेमाल च अनुपूरक रूप योग ते होर विकलिपक रोग दे उपचार गी विज्ञानिक तरीके कन्नै लिपिबद्ध कीता गेआ ऐ ।

गोड्डें दी पीड़

कारन :

गोड्डें दी पीड़ हेठ लिखे कारनें करियै होई सकदी ऐ :

अर्थराइटिस –लूपस ज्नेहा –रियूमेटाइड़ , आस्टियोअर्थराइटिस ते गाउट सहित जां सरबंधत ऊतक विकार

बरसाइटिस – गोड्डें उप्पर पलै-पलै दबाव कन्नै सूजन (जि’यां लम्मे समें आस्तै गोड्डें दे भर बौह्ना , गोड्डें द मता इस्तेमाल करना ते गोड्डें च चोट )

टेँटीनाइटिस – तुंदे गोड्डें च सामने पीड़ जो पौंड़ियां जां चड़ाई चढ़ने ते उतरदे बेलै बधी जंदा ऐ । एह् धावकें । स्कायर ते साइकल चलाने आह्लें गी होंदा ऐ ।

बेकर्स सिस्ट – गोड्डें दे पिच्छें पानी कन्नै भरे दी सूजन जेह्दे कन्नै आर्थराइटिस ज्नेह् कारनें कन्नै सोज़िश (सूजन) बी होई सकदी ऐ । जेकर सिस्ट फटी जंदी ऐ तां तुंदे गोड्डें दे पिच्छें दी पीड़ थलै पिंन्नी तकर जाई सकदी ऐ ।

घसे दा कार्टिलेज (उपसिथ) (मेनिस्कम टियर )- गोड्डें दे जोड़ दे अंदर बक्खी जां बाहर आह्ली बक्खी पीड़ करी सकदा ऐ ।

घिसे दा लिगमेंट (ए सी एल टियर )- गोड्डें च पीड़ ते अस्थायित्व पैदा करी सकदा ऐ ।

झटका लगाना जां मोच – चानचक्क जां अप्राकृतिक ढंग कन्नै मुड़ी जाने करियै लिगमेंट च ममूली चोट

जानुफलक (नीकैप ) दा विस्थापन

जोड़ च संक्रमन

गोड्डें दी चोट- तुंदे गोड्डे च खून स्राव होई सकदा ऐ जेह्दे कन्नै पीड़ मती होंदी ऐ ।

श्रोनि विकार – पीड़ पैदा करी सकदा ऐ जेह्ड़ी गोड्डें च मैसूस होंदी ऐ । मसाल दे तौर उप्पर इलियोटिबियल बैंड सिंड्रोम इक ऐसी चोट ऐ जेह्ड़ी तुंदे श्रोनि शा तुंदे गोड्डें दे बाहर तकर जंदी ऐ ।

घर च देख-बाल

  • गोड्डें दी पीड़ दे केईं कारन न , विशेशकर जेह्ड़े अति उपयोग जां शारीरिक क्रिया कन्नै सरबंधत न । जेकर तुस आपूं एह्दी देखभाल करो तां एह्दे सेही परिनाम निकलदे न ।
  • आराम करो ते नेह् कम्में शा बचो जेह्ड़े पीड़ बधाई दिंदे न , विशेश रूप च भार चुक्कने आह्ले कम्म । बर्फ दियां टकोरां । पैह्ले इसगी हर घैंटे 15 मिंट टकोरां देओ । पैह्ले दिन दे बाद हर दिन घट्ट शा घट्ट बारी टकोरा देओ ।
  • कुसै बी चाल्लीं दी सूजन गी घट्ट करने आस्तै अपने गोड्डें गी उप्पर चुक्कियै रक्खो ।
  • कोई ऐसा बैंडेज जां इलास्टिक स्लीव पाइयै गोड्डें गी बल्लें-बल्लें दबाओ । एह् दोऐ चीजां लगभग सारी दोआइयेँ आह्लियेँ दुकानें उप्पर मिलदी ऐ । एह् सूजन गी घट्ट करी सकदा ऐ ते स्हारा बी दिंदा ऐ ।
  • अपने गोड्डें दे थल्लै जां बिच्च इक सरैह्ना रखियै सवो ।

सारविकल स्पांडीलाइसिस

गर्दन दे आलै- दुआलै मेरूदंड दी हड्डीयेँ दी असमान्य बढ़ौतरी ते सरविकल बेर्टेब दे बिचच्ले कुशनों (इसगी इंटरवटेबल डिस्क दे नांऽ कन्नै बी जानेआ जंदा ऐ ) च कैलिशयम दा डी-जेनरेशन , बहि: क्षेपन ते अपनी जगह् थमां सरकने दी बजह् करियै सरविकल स्पांडीलाइसिस होंदा ऐ । प्रौढ़ ते बुड्ढें च सारविकल मेरूढंड च डी-जेनरेटिव बदलाऽ आप गल्ल ऐ ते आमतौर एह्दे कोई लच्छन बी नेईं लब्भदे । बर्टेब दे बिच्च कुशनें दे डी- जनरेशन कन्नै नाड़ी उप्पर दबाऽ पौंदा ऐ ते एह्दे कन्नै सारविकल स्पांजिलाइसिस दे लच्छन लब्भदे न । आमतौर पंजमी ते छेमीं (सी 5/ सी 6), छेमीं ते सतमीं (सी 6 / सी 7) ते चौथी ते पंजमी (सी 4/सी5) दे बिच्च डिस्क दा सारविकल बर्टेब्रा प्रभावत होंदा ऐ ।

लच्छन :

सारविकल भाग च डी-जेनरेशन बदलाऽ आह्ले माह्नूएं च कुसै चाल्लीं दे लच्छन नेईं लब्भदे जां असुविधा मैसूस नेईं होंदी । आमतौर लच्छन तां गै लब्भदे न जिसलै सारविकल नाड़ी जां मेरूदंड च दबाऽ जां खिचाव होंदा ऐ । एह्दे च हेठ लिखी समस्यां बी होई सकदियां न –

  • गर्दन च पीड़ जेह्ड़ी बांह् ते मुंढे तकर जंदी ऐ ।
  • गर्दन च आकड़न जेह्दे कन्नै सिर ल्हाने कन्नै तकलीफ होंदी ऐ ।
  • सिर पीड़ विशेशकर सिरै दे पिच्छले भाग च (ओसिपिटल सिरदर्द )
  • मुंढे , बांह्में ते हत्थें च झुंझुनाहट जां असंवेदनशीलता जां जलन होना
  • अच्च्मीं , उल्टी जां चक्कर औंना
  • मांसपेशियें च कमजोरी जां मुंढे , बांह् जां हत्थ दी मांसपेशियेँ दा नुकसान
  • हेठले अंगे च कमजोरी , मूत्राशय ते मलद्वार उप्पर नियंत्रन नेईं रौंह्ना (जेकर मेरूदंड उप्पर दबाऽ पौंदा होऐ )

प्रबंधन :

  • नाड़ियेँ उप्पर पौने आह्ले दबाऽ दे लच्छने ते दर्द गी घट्ट करना
  • स्थाई मेरूदंड ते नाड़ी दी जड़ें उप्पर होने आह्ले नुकसान गी रोकना
  • अग्गें दे डी-जनरेशन गी रोकना

इसगी हेठ लिखे जत्नें कन्नै हासल कीता जाई सकदा ऐ –

गर्दन दी मांस पेशियें गी सुदृढ़ करने आस्तै कीती गेदी कसरत कन्नै लाऽ होंदा ऐ , पर ऐसा हस्पताल दी दिक्ख-रिक्ख च गै कीता जा । फिजियोथेरेपिस्ट कन्नै ऐसी कसरत सिखयै घर इसगी करो ।

सरविकल कालर- सरविकल कालर कन्नै गर्दन दे हिलने-झुलने गी नियंत्रन करियै पीड़ गी घट्ट कीता जाई सकदा ऐ ।

गैंठिया संधि शोथ

इस रोग कन्नै शुरू च जोड़ें च जलन होंदी ऐ । शुरू-शुरू च एह् घट्ट होंदी ऐ । एह् जलन इक समें च इस शा मते बारी जोड़ें च होंदा ऐ । शुरूआत च निकके-मुट्टे जोड़ जि’यां उंगलियेँ दे जोड़ें च पीड़ शुरू होइयै एह् ड़ुंड़ूं , गोड्डें , ड़ू.ठे च बधदी जंदी ऐ ।

कारन

गैंठिया संधि शोथ होने दा सेही कारने दा पत्ता अजें तकर नेईं चलेआ ऐ , जेनेटिक पर्यावरन हार्मोनल करने दी बजह कन्नै होने आह्ले आटोइम्यून प्रतिक्रिया कन्नै जलन शुरू होइयै बाद च एह् संधियेँ दी विरूपता ते उ’नेई खतम करने दा कारन बनी जंदी ऐ । (शरीर दी रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रनाली अपनी गै कोशिकाएं गी पंछानी नेईं पांदी ऐ ते इस करी उसगी संक्रमित करी दिंदी ऐ )।

आनुवांशिकी कारक दी बजह कन्नै रोग होने दी संभावना बनी रौंह्दी ऐ ।

एह रोग पीढ़ी दर पीढ़ी चलदी रौंह्दी ऐ ।

किश माह्नूएं च पर्यावरनिय कारने कन्नै बी एह् रोग होई सकदा ऐ । केईं संक्रामक अभिकरनें दा पता चलेआ ऐ ।

रोग दे बधने जां घट्ट होने च हार्मोन विशेश भूमिका निभांदे न । महिलाएं च रजोनिवृति दे दौरान ऐसे मामले आमतौर दिक्खने च औंदे न ।

जोखिम कारक :

बरेस : हालांके एह् रोग कदें बी होई सकदा ऐ पर 20-40 साल दी बरेस आह्ले च एह् रोग मता दिक्खने च आया ऐ ।

लिंग : महिलाएं , विशेश्कर रजोनिवृति गी हासल करने आह्लियेँ महिलाएं च एह् रोग मर्दें दी तुलना च त्रै गुना मता पाया जंदा ऐ ।

प्रबंधन :

प्रबंधन दे उदेश्य ऐ

  • <जलन गे पीड़ गी घट्ट करना /li>
  • रोग गी बधने च रोक्न
  • जोड़ें दे संचालन गी बनाए रखना ते उ’नेई विकृत होने थमां रोकना शारीरिक कसरत , दवाइयां ते जरूरी होआ तां सर्जरी ई’नें त्रौनें दे कन्नै उपरोक्त गी हासल कीता जाई सकदा ऐ ।

शारीरिक कसरत

 

  • जोड़ें गी आराम देने कन्नै डीआरडी च राहत मिलदी ऐ । मांस पेशियें दी जकड़न गी दूर कीता जाई सकदा ऐ । जोड़ें गी आराम देने आस्तै उ’नें बन्नी लैओ जेह्दे कन्नै जोड़ें दी गतिशीलता ते संकुचन गी रोकेआ जाई सकै । जोड़ें गी स्हारां देने आस्तै वाकर , लकड़ी बगैरा दे स्हारे चलो ।
  • जोड़ें दी गतिशीलता गी बनाए रखने ते पीड़ ते जलन गी बगैर बधाए , कोशिका गी मजबूत करने आस्तै कसरत इक जरूरी अंग ऐ । रोगी दी स्थिति दे आधार उप्पर डाक्टर आसेआ सुझाए गेदे कसरत करो ।
  • रोगग्रस्त जोड़ें दे हेठले अंगे दे तनाऽ गी घट्ट करने आस्तै आदर्श भार बनाए रखना जरूरी ऐ ।

गैंठिया

गैंठिया दा रोग मसालेदार खाना ते शराब पीने कन्नै सरबंधत ऐ । एह् रोग पाचन क्रिया कन्नै सरबंधत ऐ । एह्दा सरबंध खून च मूत्रिय अम्ल दा मती ज़्यादा मात्रा च पाए जाने कन्नै होंदा ऐ । एह्दे करियै जोड़ें (प्रायः पाढ्गुश्ट ग्रेट टो ) च ते कदें –कदें गुर्दे च बी क्रिस्टल भारी मात्रा च बधदा ऐ ।

गैंठिया च केह् होंदा ऐ ?

यूरिक अम्ल मूत्र दी खराबी कन्नै पैदा होंदा ऐ । एह् आमतौर गुर्दे शा बाहर औंदा ऐ । जद कदें गुर्दे थमां मूत्र घट्ट औने ( एह् आम कारन ऐ ) जां मूत्र मता बनने कन्नै समान्य स्तर भंग होंदा ऐ , तां यूरिक अम्ल दा खून स्तर बधी जंदा ऐ ते यूरिक अम्ल दे क्रिस्टल बक्ख-बक्ख जोड़ें उप्पर जमा ( जोड़ें दे थाहर) होई जंदे न । रक्षात्मक कोशिकाएं इ’नें क्रिस्टलें गी ग्रैह्न करी लैंदे न जेह्दे करियै जोड़ें आह्ली जगह् उप्पर पीड़ देने आह्ले पदार्थ निर्मुक्त होई जंदे न । एह्दे कन्नै प्रभावत जोड़ खराब होंदे न ।

स्रोत : मेयो कीलिनिक

2.85714285714
अपनी राऽ देओ

उप्पर दित्ते गेदे बिशे च जेकर तुंदी कोई प्रतिक्रिया/ राऽ ऐ तां किरपा करियै इत्थे पोस्ट करी लैओ

Enter the word
Back to top