घर / सेहत / आयुश / योग अभ्यास आस्तै स्मान्य दिशानिर्देश
सांझा करो
Views
  • राज्य Open for Edit

योग अभ्यास आस्तै स्मान्य दिशानिर्देश

इस भाग च योग अभ्यास आस्तै दिशानिर्देश क्न्नै परिचे कराया गेआ ऐ जेह्ड़े योग अभ्यास शुरू करने आस्तै ज़रूरी न ।

अभ्यास थमां पैह्ले

योग अभियास करदे बेलै योग दे अभ्यास गी हेठ दित्ते गे दिशानिर्देश ते सिद्धांते दा पालन ज़रूर करना चाहिदा ;

शौच –शौच दा मतलब ऐ शोधन ,जेह्डा योग अभ्यास आस्तै एह् इक ज़रूरी ते पैह्ली क्रिया ऐ । एह्दे लावा आले –दुआले दा वातावरन , शरीर ते मनै दी शुद्धि कीती जंदी ऐ । योग दा अभ्यास शांत वातावरन च अराम आस्तै शरीर ते मनै गी शिथिल करियै कीता जाना चाहिदा । योग अभ्यास करदे बेलै खाली ढिड्ड (पेट) जां अल्पाहार लेइयै करना चाहिदा । जेकर अभ्यास दे बेलै कमजोरी मैसूस होऐ तां गुनगुने पानी च थोह्ड़ा मखीर मलाइयै लैना चाहिदा ।

योग अभ्यास मल ते मूत्र करने बाद गै शुरू करना चाहिदा ।

अभ्यास करने आस्तै चटाई , दरी , कंबल जां जोग मैट दा इस्तेमाल करना चाहिदा ।

अभ्यास करदे बेलै शरीर दी गतिविधि आसानी कन्नै होऐ , एह्दे आस्तै हल्के सूती आरामदायक कपड़ें गै लाने चाहिदे ।

थकावट , बमारी , जल्दबाजी ते तना दी स्थिति च योगा नेईं करना चाहिदा ।

जेकर पराना रोग, पीड़ जां दिलै सरबंधी समस्यां न तां योग शुरू करने दे पैह्लें हस्पताल दे डाक्टर जां योगा माहिरें शा सलाह् लैनी चाहिदी ।

गर्भावस्था जां मासिक धर्म दे समें योग करने शा पैह्लें योगा माहिर शा सलाह् लैना जरूरी ऐ ।

अभ्यास दे बेलै

अभ्यास कुसें प्रार्थना जां स्तुति कन्नै शुरू करना चाहिदा । कि जे प्रार्थना ते स्तुति मन ते दमाक गी शिथिल करने आस्तै शांत वातवरन प्रदान करदे न ।

योग अभ्यास गी आरामदायक स्थिति च शरीर ते साह्-प्रसाह् दी सजगकता दे कन्नै बल्लें-बल्लें शुरू चाहिदा ।

योग अभ्यास दे बेलै साह् ते प्रसाह् दी गति नेईं रोकनी चाहिदी , जदूं तकर जे तुसेंगी ऐसा करने आस्तै विशेश रूप कन्नै आखेआ नेईं जा ।

साह्- प्रसाह् म्हेशा नक्कै राहें गै लैना चाहिदा , जदूं तकर जे तुसेंगी होर विधि कन्नै साह् प्रसाह् लैने आस्तै आखेआ नेईं जा ।

अभ्यास दे बेलै शरीर गी शिथिल रक्खो , कुसै बी चाल्लीं दा झटका नेईं लैओ।

अपनी शारीरिक ते मानसिक क्षमता दे अनुसार गै योग करना चाहिदा ।

अभ्यास दे ठीक परिनाम औने च किश समां लगदा ऐ , इस करी लगातार ते रोज अभ्यास मता जरूरी ऐ ।

हर योगा अभ्यास आस्तै निर्देश ते सावधानियां ते सीमां होंदियां न । ऐसे निर्देश गी म्हेशा अपने मनै च रखना चाहिदा ।

योगा खत्म करदे बेलै म्हेशा ध्यान ते मौन ते शांति पाठ कन्नै करना चाहिदा ।

अभ्यास दे बाद

  • अभ्यास दे 20-30 मिंट बाद स्नान (नौह्ना) करना चाहिदा ।
  • अभ्यास दे 20-30 मिंट बाद गै रूट्टी खानी चाहिदी ।

विचार आस्तै भोजन –

खुराक संरबंधी किश दिशा निर्देश

तुस इस गल्ल गी सुनिश्चित करी सकदे ओ जे अभ्यास आस्तै शरीर ते मन ठीक चाल्लीं कन्नै त्यार न । अभ्यास दे बाद आमतौर उप्पर शाकाहारी खाना गै ठीक मन्नेआ जंदा ऐ । 30 साल दी बरेस थमां उप्पर माह्नू आस्तै बमरी जां मता शारीरिक कम्म जां मैह्नत दी स्थिति गी छोड़ियै इक दिन च दो बरी रूट्टी खाना जरूरी होंदा ऐ ।

योग किस चाल्लीं मदद करी सकदा ऐ

योग निश्चत रूप च सारी चाल्लीं दे बंधनें शा मुक्ति हासल करने दा साधन ऐ । वर्तमान समें च होए हस्पताल शोधों ने योग कन्नै होने आह्ले केईं शारीरिक ते मानसिक लाƧ दे रहस्य प्रकट कीते न । कन्नै गै योग दे लक्खें अभ्यासियें दे अनुसार दे आधार उप्पर इस गल्ल दी पुशटी कीती जाई सकदी ऐ जे योग किस चाल्लीं मदद करी सकदा ऐ ।

  • योग शारीरिक सेह्त , स्नाथुतंत्र ते कंकालतंत्र दे कम्म करने ते दिल ते नाड़ियें दी सेह्त आस्तै मददगार अभ्यास ऐ ।
  • एह् मधुमेह (शुगर) साह् सरबंधी विकार , उच्च रक्तचाप , निम्म रक्तचाप ते जीवन शैली संबंधी केईं चाल्लीं दे विकारें दे प्रबंधन च लाƧ कारी ऐ ।
  • योग मानसिक धर्म गी नियमत बनादा ऐ ।
  • संक्षेप च जेकर एह् आखेआ जा जे योग शरीर ते मन दे निर्मान दी ऐसी प्रक्रिया ऐ , जेह्ड़ी सम्रद ते परिपूरन जीवन दी तरक्की दा मार्ग ऐ , न कि जीवन दे अवरोध दा ।

स्त्रोत : अंतराष्ट्रीय योग दिवस , राष्ट्रीय सेह्त जोजना , भारत सरकार

3.03571428571
अपनी राऽ देओ

उप्पर दित्ते गेदे बिशे च जेकर तुंदी कोई प्रतिक्रिया/ राऽ ऐ तां किरपा करियै इत्थे पोस्ट करी लैओ

Enter the word
Back to top