सांझा करो
Views
  • राज्य Open for Edit

योग

संतुलत तरीके कन्नै अंतनिर्हित शक्ति गी बेह्तर बनाने जां विकसत करने आस्तै इक अनुशासन दे रूप च लोकप्रिय योग दी जानकारी ऐ ।

योग दी परिभाशा

योग संतुलत तरीके कणने इक माह्नू च निहित शक्ति च सुधार जां ओह्दा विकास करने दा शस्त्र ऐ । एह् पूरे आत्मानुभूति पाने आस्तै इच्छुक माह्नूएं आस्तै साधन पैदा करांदा ऐ । संस्कृत शब्द योग दा शाब्दिक अर्थ ‘योक’ ऐ । अतः योग गी भगवान दी सार्वभौमिक भावना दे कन्नै व्यक्तिगत आत्मा गी इकजुट करने दे इस साधन दे रूप च परिभाशत कीता जाई सकदा ऐ । महर्षि पतंजलि दे अनुसार , योग मन दे संशोधनें दा दमन ऐ ।

योग इक सार्वभौमिक व्यवहारिक अनुशासन

योग अभ्यास ते अनुप्रयोग तां संस्कृति , राश्ट्रीयता , नस्ल , जाती , पंथ , लिंग , उगर ते शारीरिक अवस्था शा परें सार्वभौमिक ऐ । एह् ना तां ग्रंथें गी पड़ियै ते ना गै इक तपस्वी दा वेश बनाइयै इक सिद्ध योगी दा थाहर हासल कीता दा अनुभव नेईं करी सकदा ऐ ते ना गै ओह्दी अंतनिर्हित क्षमता दा ऐहसास करी सकदे न । सिर्फ नियमत अभ्यास शरीर ते मन च औह्दे उत्थान आस्तै इक स्वरूप बनादे न । मनै दे प्रशिक्षन ते सकल चेतना गी परिश्कृत करियै चेतना दे उच्चतर स्तरें दा अनुभव करने आस्तै अभ्यासकर्ता च गैह्री इच्छा शक्ति होने चाहिदी ।

विकसोन्मुख प्रक्रिया दे रूप च योग

योग मानव चेतना दे विकास च इक विकासवादी प्रक्रिया ऐ । कुल चेतना दा विकास कुसै माह्नू विशेश च जरूरी रूप कन्नै शुरू नेईं होंदा ऐ बल्कि एह् तां शुरू होंदा ऐ जिसलै कोई इसगी शुरू करना चुनदा ऐ । शराब ते नशीली दोआ दे इस्तेमाल , मता कम्म करना , मता ज़्यादा सैक्स ते होर उत्तेजकें च लिप्त रौंह्ने कन्नै बक्ख-बक्ख चाल्लीं दे सुखने दिक्खने गी मिलदे न , जेह्ड़े अचेतनावस्था दी बकखी लेई जंदा ऐ । भारतीय योगी उस बिंदू थमां शुरूआत करदे न जित्थें पच्छ्मीं मनोविज्ञान दा अंत होंदा ऐ । जेकर फ्रायड दा मनोविज्ञानिक रोग दा मनोविज्ञान ऐ ते माश्लो दा मनोविज्ञान सेह्तमंद माह्नू दा मनोविज्ञान ऐ तां भारतीय मनोविज्ञान आत्मज्ञान दा मनोविज्ञान ऐ । योग च , प्रशन माह्नू दे मनोविज्ञान दा नेईं होंदा ऐ बल्कि ओह् आध्यात्मिक विकास दा प्रशन होंदा ऐ ।

आत्मा दी हस्तपताल दे रूप च योग

योगा दे सारे रस्ते ( जप , कर्म , भक्ति बगैरा ) च दर्द दा प्रभाव बाहर करने आस्तै उपचार दी संभावना होंदी ऐ । पर आखरी लक्ष्य तकर पुज्जने आस्तै इक माह्नू गी कुसै ऐसे सिद्ध योगी थमां मार्गदर्शन दी जरूरत होंदी ऐ , जेह्ड़ी पैह्लें गै समान रस्ते उप्पर चलियै परम लक्ष्य गी हासल करी चुके दा होऐ । अपनी जोगता गी ध्यान च रखदे होई जां तां एक सक्षम काउंसलर दी मदद कन्नै जां इक सिद्ध योगी कन्नै परामर्श करियै विशेश रस्ता बड़ी सावधानी कन्नै चुनेआ जंदा ऐ ।

योग दे प्रकार

जप योग : बारम्बार सस्वर पाठ दोहराइयै जां चेता करियै परमात्मा दे नाƨ जां पवित्र शब्दांश जि’यां ओƨम , राम , अल्लाह , प्रभु । वाहे गुरू बगैरा उप्पर ध्यान करना ।

कर्म योग : असें गी फल दी कुसै बी इच्छा दे बगैर सारे कम्म करना सखांदा ऐ । इस साधन च योगी अपने कम्म गी दिव्य कम्म दे रूप च समझदा ऐ ते उसगी पूरे मनै कन्नै समर्थन कन्नै करदा ऐ पर दूइयेँ सरियें इच्छें शा बचदा ऐ ।

ज्ञान योग : असें गी आत्म ते गैर – आपूं चे भेद करना सखांदा ऐ ते शास्त्रें दे अध्ययन , संन्यासियें दे सान्निध्य ते ध्यान दे तरीके दे माध्यम कन्नै अध्यात्मिक आस्तित्व दे ज्ञान गी सिखांदा ऐ ।

भक्ति योग : भक्ति योग , परमात्मा दी इच्छा दे पूरे समर्पन उप्पर ज़ोर देने दे कन्नै तीव्र भक्ति दी इक प्रनाली ऐ। भक्ति योग द सच्चा अनुयायी अहंकार शा मुक्त विनम्र ते दुनियां दी द्वैतता शा अप्रभावत रौहंदा ऐ ।

राज योग : “अशटांग योग” दे रूप च लोकप्रिय राज योग माह्नू दे चौतरफा विकास आस्तै ऐ । एह् न यम , नियम , आसन , प्राणायाम , प्रत्याहार , धारन , ध्यान ते समाधि ।

कुंडलिनी : कुंडलिनी योग तांत्रिक परंपरा दा इक हिस्सा ऐ । स्रश्टी दे उद्भव दे बाद थमां तांत्रियें ते योगियें गी ऐह्सास होआ ऐ जे इस भौतिक शरीर च, मूलाधार चक्र – जेह्ड़ा सत्तें चक्रें चा इक ऐ , च इक गहन शक्ति दा वास ऐ । कुंडलिनी दा थाहर रीढ़ दी हड्डी दे आधार उप्पर इक निक्की जेहि ग्रंथि ऐ । मर्द दे शरीर च एह् मूत्र ते अपशिश्त कडड्ने आह्ले अंगे दे बिच्च मूलाधार च ऐ । महिला दे शरीर च ऐह्दा थाहर गर्भाशय ग्रीवा च गर्भाशय दी जड़ च ऐ । उ’नें लोकें गी जि’नें एह् अलौकिक शक्ति जाग्रत कीती ऐ , उ’नेई समें , परंपरा , ते संसकृति दे अनुसार ऋषि , पैगम्बर , योगी , सिद्ध ते होर नांएं कन्नै बुलाया गेआ ऐ । कुंडलिनी गी जाग्रत करने आस्तै तुसेंगी शडक्रिया , आसन, प्रानायाम , बंध , मुद्रा ते ध्यान दे रूप च योग दी तकनीकें दे माध्यम कन्नै अपने आप गी त्यार करना होग । कुंडलिनी जाग्रति दे परीनामस्वरूप दिमाक च इक विस्फोट होंदा ऐ। कि जे सुत्ते दे जां निशक्रिय खेत्तर फ़ुल्लै दे आंगर खिलने शुरू होई जंदे न ।

नाड़ी : जि’यां कि यौगिक ग्रंथें च ऐ , नाड़ियां ऊर्जा दा प्रवाह न जिंदा आस मानसिक स्तर उप्पर बक्ख चैनलें , प्रकाश , ध्वनि रंग ते होर विशेशताएं दे रूप च कल्पना करी सकदे आं । नाडियें दा सारा नेटवर्क इन्ना बड्डा ऐ जे बक्ख-बक्ख यौगिक ग्रंथें च हुंदी गीनती बक्ख-बक्ख ऐ । गोरक्ष शतक जां गोरक्ष संहिता ते हठयोग प्रदीपिका च संदर्भ इंदी गीनती 72,000 दस्सदे न , जेह्ड़ी नाभि केंद्र – मनिपुर चक्र शा पैदा न । सारियां ज्हारां नाड़ियेँ चा सुशुम्ना गी सारें शा जरूरी आखेआ जंदा ऐ । शिव स्वरोदय दस मुक्ख नाड़ियेँ दे बारे च दस्सदा ऐ जो शरीर थमां अंदर ते बाह्र औने –जाने दे मुक्ख दरवाजे न । इ’नें दसें चा इड़ा पिंगला ते सुशुम्ना सारें शा जरूरी न , एह् उच्च वोल्टेज दे तार न जह्ड़े सबस्टेशन जां मेरूदंड दे कन्नै स्थित चक्रें च उरजा भेजदे न ।

भारत च योग आस्तै राष्ट्रिय स्तर दे संस्थान

मोरारजी देसाई राष्ट्रिय योग संस्थान , नमीं दिल्ली

  • मोरारजी देसाई राष्ट्रिय योग संस्थान (MDNIY ) सोसायटी पंजीकरन अथिनियम , 1860 दे तैह्त पंजीक्रत इक स्वायत्त संगठन ऐ ते पूरी चाल्ली कन्नै आपुश विभाग , सेह्त ते परिवार कल्यान मंत्रालय , भारत सरकार आसेसा वित्त पोशित ऐ ।
  • एह् संस्थान भारत दी राजधानी दे शैल परिदृश्य च ह्रदयस्थल लुटियन्स जोन च , जानि 68, अशोक रोड़ , नमीं दिल्ली च ऐ ।
  • विशेश रूप कन्नै तनाƨ संबंधत मनोदैह्क रोगें आस्तै , इक सेह्त विज्ञान दे रूप च योग दी जबरदस्त क्षमता गी ध्यान च रखदे होई , भारतीय सिस्टम च हस्पताल ते होमियोपैथी दे अनुसंधान आस्तै पूर्व केंद्रीय परिशद आस्तै ऐ , दिखने गी ध्यान च रखदे होई साल 1970 च इक निजी संस्था कन्नै जुड़े विशिवायतन योगाश्रम गी इक पंज शैया आह्ले योग अनुसंधान अस्पताल दी मंजूरी दित्ती ही । खेत्तर च कीते गे विज्ञानिक अध्ययनें कन्नै ज्ञात निवारक , प्रोत्साहक ते रोगहर पैहलुएं दे रूप च योग प्रथाओं दे महत्व ते प्रभावशीलता गी मैसूस करने दे बाद साकार करने बाद 1 जनवरी 1976 गी योग आस्तै केंद्रीय अनुसंधान संस्था (CRIY) बनाया गेआ हा ते योग अनुसंधान अस्पताल च कम्म करै करदे कर्मचारियेँ गी नियमित नियुक्ति दित्ती गेई ही ।
  • CRIY दी मुक्ख गतिविधियेँ च योग दी बक्ख-बक्ख प्रथाएं उप्पर आम जनता ते विज्ञानिक अनुसंधान आस्तै मुफ्त योग प्रशिक्षित हे । 1998 तकर CRIY योग ते अनुसंधान प्रशिक्षन दे नियोजन , बढ़ावा देने ते समन्वय आस्तै इक संस्थान बनेआ रेहा । बधियेँ गतिविधियेँ ते उच्च गुनवत्ता दी सेवाएं प्रदान करने दे लावा देश भर च योग दे बधदे महत्व गी मैसूस करदे होई इक राष्ट्रिय संस्थान दी स्थापना ते केंद्रिय योग अनुसंधान संस्थान (CRIY) दे क्न्नै एह्दी सांझ कारियै इसगी मोरारजी देसाई राष्ट्रिय योग संस्थान (MDNIY) दा नां देने दा निर्ना लैता गेआ हा ।
  • मती जानकारी आस्तै वैबसाइट http://www.yogamdniy.nic.inउप्पर जाओ |

सरबंधत स्त्रोत

  1. 21 बमारियें आस्तै योग ते प्राकृतिक (हस्पताल ) अधारत उपचार
  2. आयुश दे बारे च मिथक ते तथय
  3. आयुश च गुनवत्ता नियंत्रन
  4. आयुश विभाग सिह्त ते परिवार कल्यान मंत्रालय, भारत सरकार
3.0
दित्ते गेदे तारें गी दिक्खो ते उस दे अधार उप्पर क्लिक करो
अपनी राऽ देओ

उप्पर दित्ते गेदे बिशे च जेकर तुंदी कोई प्रतिक्रिया/ राऽ ऐ तां किरपा करियै इत्थे पोस्ट करी लैओ

Enter the word
Back to top