घर / सेहत / मानसिक सेह्त / मानसिक सेह्त दे बारे च जागरूकता
सांझा करो
Views
  • राज्य Open for Edit

मानसिक सेह्त दे बारे च जागरूकता

मानसिक सेह्त केह् ऐ ?

स्वास्थ्य देश दे विकास आस्तै म्हत्व्पूरन ऐ । विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) दे अनुसार “रोग जां दुर्बलता दा उपचार शारीरिक , मानसिक , समाजिक ते आध्यात्मिक तरीकें कन्नै शैल चाल्लीं कीता जा करदा ऐ । मानसिक सेह्त गी परिभाशत करने च एह् आखेआ जाई सकदा ऐ जे एह्दे कन्नै , इक माह्नू गी अपनी क्षमताएं दा पता चलदा ऐ , एह् आत्मविश्वास औंदा ऐ जे वे जीवन दे तनाƧ कन्नै सामना करी सकदे न , उत्पादकता कम्म ते अपने जां अपने समुदाय आस्तै इक जोगदान करने च सक्षम होई सकदे न । इस सकारात्मक अर्थ च एह् बी मन्नेआ जाई सकदा ऐ जे , इस दुविधा कन्नै लड़ियै ते जित्तियै मानसिक रूप कन्नै सेह्तमंद माह्नू शैल चाल्लीं कन्नै कुसै बी कम्म गी करी सकदा ऐ । ते एह् इक समुदाय दे प्रभावी संचालन आस्तै नींƧ ऐ ।

कीƧ जरूरी ऐ ?

45 करोड़ शा बी मते लोक मानसिक विकारें शा ग्रस्त न । WHO दे अनुसार साल 2020 तकर अवसाद विश्व भर च दूए सारें शा बड्डे रोग भार दा कारन होग (मरे ते लोपेज , 1996) मानसिक सेह्त दा वैश्विक भार विकसत ते विकासशील देशें दी उपचार दी क्षमता कन्नै बड़ा मता परें होग । मानसिक अस्वस्थता दे बधदे भार कन्नै सरबंधत समाजिक ते आर्थिक लागत ने मानसिक सेह्त गी बढ़ावा देने ते कन्नै गै मानसिक रोगें दे निवारन ते उपचार दी संभावनाएं उप्पर ध्यान दित्ता ऐ । इस चाल्लीं मानसिक सेह्त दा सरबंध बर्ताव कन्नै जुड़े दा ऐ ते उसगी शारीरिक सेह्त ते जीवन दी गुनवत्ता दा मूल समझेआ जंदा ऐ ।

  • शारीरिक सेह्त ते मानसिक सेह्त दा इक लाग्गे दा सरबंध ऐ ते एह् जिससंदेह रूप कन्नै सिद्ध होई चुका ऐ जे अवसाद दे कारन दिल दे ते रक्तवाहिकीय रोग होंदे न ।
  • मानसिक विकार माह्नू दी सेह्त जि’यां सरबंधी बर्तावों – समझदारी कन्नै खाना खाने , रोज कसरत , पूरी नींदर , सुरक्षत यौन व्यवहार , मद्य ते , धूम्रपान , चिकित्सकीय उपचारें दा पालन करने बगैरा गी प्रभावित करदे न । ते इस चाल्लीं शारीरिक रोग दे जोखिम गी बंधादे न ।
  • मानसिक अस्वस्थता दे कारन सामाजिक समस्थां बी पैदा होनदियां न जि’यां बेरोजगार , बिखरे दे परिवार , गरीबी , नशीलीं चीज़ें दा दुर्व्यसन ते सबंधत अपराध ।
  • मानसिक अस्वस्थता रोग निरोधक क्रियाशीलता च जरूरी भूमिका निभांदी ऐ ।
  • अवसाद शा ग्रस्त चिकित्सकीय रोगियें दा हश्र बगैर अवसाद कन्नै ग्रस्त रोगीयें कन्नै मता बुरा होंदा ऐ ।
  • लम्में चलने आह्ले रोग जि’यां शुगर (मधुमेह) कैंसर , दिल दे रोग अवसाद दे जोखिम गी बधांदे न ।

इसगी लागू करने च मुश्कलां केह् न ?

मानसिक रोग कन्नै जुड़ी कलंक दी भावना , जेह्दे करियै ऐसे लोकें दे खलाफ समाज च हर पैह्लुएं , जि’यां शिक्षा , रोजगार , व्याह् बगैरा च भेदभाव होंदा ऐ , हस्पताल दी मदद लैने च चिर करने दी बजह् होंदी ऐ । मानसिक सेह्त ते रोग दे सिद्धांतें च अस्पश्टता दे कन्नै निश्चत चिन्नें ते लच्छ्नें दे अभाव दे करियै मैदानिक असमंजस ।

  • लोक मनदे न जे मानसिक रोग उ’नें लोकें च होंदे न जो मानसिक रूप कन्नै कमजोर होंदे न जां ओह् भटकदी आत्माएं दे कारन होंदे न ।
  • केईं लोकें दि राƧ ऐ जे मानसिक रोग अनुत्क्रमनीय होंदे न , जेह्दे कन्नै चिकित्सकीय नकारात्मकता पैदा होंदी ऐ ।
  • केईं लोग एह् मनदे न जे निवारन दे उपाƧ सफल नेईं होई सकदे ।
  • केईं लोकें दा एह् मनना ऐ जे मानसिक रोगें दे इलाज आस्तै प्रयुक्त दोआ दे केईं दूरप्रभाव होंदे न ते हुंदी लत लग्गी सकदी ऐ । उ’नेई लगदा ऐ जे इ;नें दोआयें कन्नै सिर्फ नींदर औंदी ऐ ।
  • WHO आसेआ आंकड़े च दस्सेआ गेआ ऐ जे मानसिक सेह्त समस्या शा पैदा भार ते देशें च हुंदी रोकथाम ते इलाज आस्तै उपलब्ध संसाधने दे बिच्च इस बड़ी बड्डी खाई ऐ ।
  • विश्व दे ज़्यादातर भागें च अजें तकर मानसिक रोगें दे उपचार गी शेश अस्पताल ते सेह्त दी देख भाल शा दूर रखेआ जंदा हा ।
  • मानसिक रोगी ते हुंदे परिवार दबाƧ लाने आह्ले समूहें दे चाल्लीं व्यवहार नेईं करदे न कि जे ओह् गंभीर समाजिक कलंक ते अपने अधिकारें दे बारे च जानकारी कन्नै अनभिज्ञता दे करियै मिलीयै कोशिश नेईं करना चाहह्दे ।
  • गैर सरकारी संगठन बी इसगी इक मुशकल खेतर मन्नदे न कि जे एह्दे आस्तै लम्में अर्से दी बचनबद्धता दी जरूरत होंदी ऐ ते ओह् मानसिक रोगियें कन्नै सामना करने शा डरदे न ।

मानसिक रोग दे केह् कारन न ?

जीववैज्ञानिक कारक

1.न्योरो ट्रांसमिटर्स : रोगें दा सरबंध दमाक च न्यूरो ट्रांसमिटर्स नांƧ दा विशेश रसायनें दे असमान्य संतुलन कन्नै पाया गेआ ऐ । नयोरो ट्रांसमिटर्स दमाक च नाड़ी कोशिकाएं गी इक दूए दे संचार करने च मदद करदे न । जेकर एह् रसायन असुंतुलत होई जान जां ठीक चाल्लीं कम्म नेईं करन , तां संदेश दमाक चा ठीक चाल्लीं कन्नै नेईं गुजरदे न जेह्दे कन्नै मानसिक रोग दे लच्छन पैदा होई जंदे न ।

2.जीनविज्ञान : (अनुवंशिकता) केई मानसिक रोग बंशानुगत होंदे न , जेह्दे कन्नै लगदा ऐ जे ऐसे लोकें च जिं’दे परिवार दा कोई सदस्य मानसिक रोग कन्नै ग्रस्त होंदा ऐ , मानसिक रोग होने दी संभावना मती होंदी ऐ । रोग ग्रस्त होने दी संभावना परिवारें च जीन दे कन्नै होंदी ऐ । माहिर मनदे न जे केईं मानसिक रोगें दा सरबंध इक गै नेईं बल्के केईं जीन दे विकारें कन्नै होंदा ऐ । इ’यै बजह् ऐ जे कोई माह्नू मानसिक रोग कन्नै ग्रस्त होने दी संभावना तां अनुवांशिक रूप कन्नै हासल करदा ऐ पर हुंदा रोग कन्नै ग्रस्त होना गरूरी नेईं ऐ । मानसिक रोग आपूं सारे जीन ते होर करकें दी अंतक्रिया करियै होंदा ऐ जि’यां तनाव , गलत व्यवहार , जां कोई दुखद घटना जो एह्दे प्रति अनुवांशिक संभावना कन्नै युक्त माह्नू च रोग गी प्रभावत जां पैदा करी सकदा ऐ ।

3. संक्रमन : किश संक्रमनें दा सरबंध दी चोट ते मानसिक रोग दे विकास जां ओह्दे लच्छ्नें दे बिगड़ने कन्नै जोड़ेआ गेआ ऐ । मसाल आस्तै , स्ट्रेप्टोकाकस जीवानू से सरबंधत बालकें दी स्वतः रोगसक्षम नाड़ी मानसिक बिकार नांƧ दी इक अवस्था दा सरबंध ञयानें च इक आब्सेसिसवकम्पल्सिव – विकार ते बाकी होर मांसकिक रोगें दे विकास कन्नै जोड़ेआ गेआ ऐ ।

4. दमाक दे दोश जां चोट : दमाक दे कतिपय खेतर च विकारें जां उ’नें चोट लगने दा सरबंध बी किश मानसिक रोगें कन्नै जेड़ेआ गेआ ऐ ।

विश सेह्त संगठन दी प्रतिक्रिया ?

विश्व सेह्त संगठन मानसिक सेह्त गी मजबूत करने ते बढ़ावा देने च सरकरें गी सैह्जोग प्रदान करदा ऐ । WHO ने मानसिक सेह्त गी बढ़ावा देने आस्तै प्रमान दा मूल्यांकन कीता जंदा ऐ ते सरकारें दे कन्नै इस जानकारी गी बंडने ते प्रभावशाली रननीतियां गी नीतियें ते जोजनाएं च एकीक्रत करने आस्तै कम्म करै करदा ऐ । बाल्यकाल दी शरूआत च हस्तक्षेप (मसाल आस्तै गर्भवती जनानियें लेई घरेलू गल्लां , विध्यालय पूर्व मानसिक सामाजिक गति विधियां , प्रतिकूल स्थिति ग्रस्त अबादियें आस्तै संयुक्त पोशन ते मानसिक सामाजिक मदद )

  • ञ्यानें गी मदद (मसाल आस्तै कौशल निर्मान कम्म ), शिशू ते नौजोंआन विकास कार्यक्रम
  • जनानियें दा सामाजिक ( मसाल दे तौर उप्पर शिक्षा ते सूक्ष्मऋन जोजना ) आर्थिक सशक्तिकरन तकर पौंह्च गी बेह्तर बनाना ।
  • ब्रद्ध आबादियें आस्तै सामाजिक सहारा (मसाल दे तौर पर मित्रता बधाने दी पैह्ल ) बुड्डें लेई समुदायक ते दिवस केंद्र ।
  • कमजोर बर्गें लेई बनाए गेदे कार्यक्रम , ज़िं’दे च अल्पसंख्यक , मूल निवासी , प्रवासी विवादें ते विपताएं कन्नै प्रभावत लोक शामल न (मसाल लेई विपताएं दे बाद मानसिक सामाजिक हस्तक्षेप )
  • विध्यालायें च मानसिक सेह्त दा बढ़ावा करने आह्लियां गतिविधियां ( मसाल दे तौर उप्पर स्कूलें च परिस्थिति विज्ञानिक परिवर्तनें गी समर्थन ते ञ्यानें लेई मित्रवत् स्कूल )
  • कम्म आह्ली जगह् (मसाले आस्तै तनाƧ निवारन कार्यक्रम) पर मानसिक सेह्त हस्तक्षेप
  • आवास नीतियां (मसाले आस्तै आवास च सुधार )
  • हिंसा निवारन कार्यक्रम (मसाले दे तौर उप्पर समुदायक पुलिस दी पैह्ल) ; ते समुदायक विकास कार्यक्रम ( मसाल दे तौर पर दिक्ख-रिक्ख करने आह्ले सामुदायें दी पैह्ल एकीक्रत ग्रामीन विकास)

स्रोत :विश्व सेह्त संगठन , पोर्टल विशे सामग्री टीम

2.6
अपनी राऽ देओ

उप्पर दित्ते गेदे बिशे च जेकर तुंदी कोई प्रतिक्रिया/ राऽ ऐ तां किरपा करियै इत्थे पोस्ट करी लैओ

Enter the word
Back to top