घर / समाजिक भलाई / कौशल विकास / दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीन कौशल जोजना
सांझा करो
Views
  • राज्य Open for Edit

दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीन कौशल जोजना

इस भाग च कुशल कार्यबल बनाने आस्तै शुरू कीती गेई ग्रामीन कौशल जोजना दे बारे दस्सेआ गेआ ऐ ।

परिचय

समवेशी विकास आस्तै कौशल विकास

साल 2011 दी जनगनना दे अनुसार भारत दे ग्रामीन खेत्तरें च 15 साल थमां लेइयै 35 साल दी बरेस अंदर 5.50 करोड़ संभावत कम्मगार (कारीगीर) न । एह्दे कन्नै भारत आस्तै अपनी बाद्धू जनसंख्या गी इक जनसांख्यिक लाऽ अंश दे रूप च परिनत करने दा इक इतिहास्क मौका सामनै अवै करदा ऐ । ग्रामीन विकास मंत्रालय ने गरीब परिवारें दे ग्रामीन नौजोंआने दे कौशल विकास ते उत्पादक क्षमता दा विकास दे बल उप्पर दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीन कौशल जोजना (डी डी यू- जी के वाई ) दे लागू कन्नै देश दे समावेश विकास आस्तै इस राश्ट्रीय राय एजेंडे उप्पर ज़ोर दित्ता ऐ ।

आधुनिक बजार च भारत दे ग्रामीन गरीबें गी अग्गें लोन च केईं चनौतियां न , जि’यां औपचारिक शिक्षा ते बजार दे अनुकूल कौशल दी कमी होना । विश्व स्तर उप्पर प्रशिक्षन वित्तपोशन , रोजगार कराने उप्पर ज़ोर देने , रोजगार स्थायी बनाने , अज्जेविका उन्नयन ते विदेश च रोजगार प्रदान करने ज़्नेह् दे माध्यम कन्नै डीडीयू – जीकेवाई इस फर्क गी मिटाने दा कम्म करदी ऐ ।

जोजना दियां विशेशतां

  • दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीन कौशल्य दी विशेशतां
  • लाऽ कारी जोजनाएं तकर गरीब ते सीमांत लोकें गी पजाने च सक्षम बनाना
  • ग्रामीन गरीबें आसतें मांग अधारत मुफ्त कौशल प्रशिक्षन प्रदान करना
  • समावेशि कार्यक्रम त्यार करना
  • सामाजिक तौर उप्पर बचित समूहें (अजा/ अजजा 50 प्रतिशत , अल्पसंख्यक 15 प्रतिशत , महिला 33 प्रतिशत ) गी जरूरी रूप च शामल करना ।
  • प्रशिक्षन शा लेइयै आजीविका उन्नयन उप्पर ज़ोर देना ।
  • रोजगार स्थाई करने, आजीविका उन्नयन ते विदेश च रोजगार प्रदान करने दे उदेश्य कन्नै पथप्रदर्शन दे जत्न करना ।
  • नियोजित उमी’दवार आस्तै बाद्धू मदाद ।
  • नियोजन परैंत मदाद , प्रवास मदाद ते पूर्व छात्र नेटवर्क त्यार करना
  • रोजगार सांझेदारी त्यार करने दी दिशा च सकारात्मक पैह्लू ।
  • घट्ट शा घट्ट 75 प्रतिशत प्रशिक्षित उमीदवारें आस्तै रोजगार दी गरैंटी देना ।
  • कार्यान्वयन सांझेदारी दी क्षमता बधाना ।
  • प्रशिक्षन सेवा प्रदान करने आह्लियां नामियां अजेंसियां त्यार करियै कौशल विकास करना ।
  • खेत्तरिय तौर उप्पर ज़ोर देना ।
  • जम्मू-कश्मीर (हिमाचल), पूर्वोत्तर खेत्तर ते बामपंथी उग्रवाद कन्नै प्रभावित 27 जिले (रोशनी) च गरीब ग्रामीन नौजुआने आस्तै परिजोजनाएं उप्पर मता ज़ोर देना ।
  • स्तरिय सेवा वितरन ।
  • कार्यक्रमें कन्नै जुड़ी सारी गतिविधियां स्तरिय संचालन प्रक्रिया उप्पर अधारत होङन जेह्ड़ियां स्थानिय निरीक्षकें आसेआ दस्से जाने आस्तै नेईं न । सारे चाल्लीं दे निरीक्षन भू-स्थैतिक प्रमान , समें दे विवरन समेत वीडियो /तस्वीरें कन्नै समर्थित होङन ।

परियोजना वित्तपोशान मदाद

डी डी यू – जी के वाई दे माध्यम कन्नै कौशल प्रदान करने आह्ली परीयोजना कन्नै जुड़े रोजगार आस्तै वित्तपोशान मदाद हासल कराई जंदी ऐ , जेह्दे कन्नै हर माह्नू 25,696 रपेऽ शा लेइयै 1 लक्ख रपेऽ तकर वित्तपोशान मदाद दे कन्नै बजार दी मांग दा समाधान कीता जाँदा ऐ , जेह्ड़ी परियोजना दी अवधि ते आवासिय ते गैर आवासिय परियोजना उप्पर आधारत ऐ । डी डी यू – जी के वाई दे माध्यम कन्नै 576 घेंटे ( त्रै म्हीने ) शा लेइयै 2304 घेंटे (बारां म्हीने ) दी अवधि आह्ली प्रशिक्षन परियोजनाएं आस्तै वित्तपोशान कीता जंदा ऐ ।

मापन दे प्रभाव

डी डी यू – जी के वाई सारे देश च लागूऐ । फिलहाल एह् जोजना 33 राज्य / केंद्रशासित प्रदेशें दे 610 जिलें च लागूकीती गेई ऐ । एह्दे च 50 थमां मते खेत्तरें कन्नै जुड़े 250 थमां बद्ध ट्रेड़ों गी शामल करदे होई 202 थमां मती परियोजना लागू अजेंसियें दी सांझेदारी ऐ । हूनै तकर साल 2004-05 थमां लेइयै 30 नवंबर 2014 तकर कुल 10.94 लक्ख उमी’दवारे गी प्रशिक्षित कीता गेआ ऐ टे कुल 8.51 लक्ख उमी’दवार गी रोजगार प्रदान कीता गेआ ऐ ।

स्त्रोत :श्री एल सी गोयल ( ग्रामीन विकास मंत्रालय च सचिव पत्र सूचना कार्यालय , भारत सरकार ।

3.12903225806
अपनी राऽ देओ

उप्पर दित्ते गेदे बिशे च जेकर तुंदी कोई प्रतिक्रिया/ राऽ ऐ तां किरपा करियै इत्थे पोस्ट करी लैओ

Enter the word
Back to top