অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

मच्छी पालन कि’यां करना चाहिदा

मच्छी पालने दी त्यारी

मच्छी आस्तै तलाऽ दी त्यारी बरसांती दे पैह्लें करी लैना ठीक रौंह्दा ऐ । मच्छी पालन सारें चाल्लीं दे निक्के-बड्डे मौसमी ते बारांमासी तलाएं च कीता जाई सकदा ऐ । एह्दे लावा ऐसे तलाऽ जिस च केईं पानि च होनें आह्लियां फसलां जियां सिंघाड़ा , कमल्गट्टा ,मुरार बगैरा लेइयां जंदियां न ओह् बी मच्छीपालन दे कन्नै-कन्नै जरूरी होंदियां न । मच्छी पालने आस्तै जेह्ड़ा हैल , उर्वरक , होर बाकी खाने आह्लियां चीजां सुट्टियां जंदियां न ओह्दे कन्नै तलाऽ दी मिट्टी ते पानी दी उर्वरकता बधदी ऐ , परिनाम दे तौर उप्पर फसल दी पैदावार बी बधदी ऐ । इनें बनस्पति फसलें दा कचरा जह्ड़े तलाऽ दे पानी कन्नै सड़ी गली जंदा ऐ ओह् पानी ते मिट्टी गी मता उपजाऊ बनांदा ऐ जेह्दे कन्नै मच्छी आस्तै मती मात्रा च आहार दे रूप च प्लेक्टान पैदा होंदा ऐ । इस चाल्लीं दोऐ गै इक दूए दे पूरक बनी जंदे न ते आपूं च पैदावार बधाने च मददगार होंदे न धान दे खेतरें च बी जित्थें जून-जुलाई थमां लेइयै अक्तूबर-नवम्बर म्हीनें तकर पानी रौंह्दा ऐ , मच्छी पालियै होर मती आमदनी हासल कीती जाई सकड़ी ऐ । धान दे खेतरें च मच्छी पालने आस्तै इक बक्ख कीस्म दी त्यारी करने दी जरूरत होंदी ऐ ।

करसान अपने खेत्तरै चा शैल मती पैदावार करने आस्तै खेत्तर बांह्दा ऐ , खेतरें दियेँ आड़ें गी समें सिर जरूरत अनुसार मरम्मत करदा ऐ , घाऽ–बरूट बाहर कड्ढ्दा ऐ , जमीन गी हैल ते उर्वरक बगैरा देइयै त्यार करदा ऐ ते समां औने उप्पर बीऽ दे लुङ निकलने बेलै ओह्दी शैल चाल्लीं देखभाल करदे होई गोडी-ताली करदा ऐ , जरूरत मताबक नाइट्रोजन स्फूर ते पोटाश हैल दा प्रयोग करदा ऐ । बेलै सिर बूह्टें दी बमारियेँ दी रोकथाम करने लेई दोआई बगैरा दा इस्तेमाल करदा ऐ । ठीक इस्सै चाल्लीं मच्छी दी शैल पैदावार हासल करने आस्तै मच्छी दी खेती च बी इ’नें कम्में दा करना जरूरी होंदा ऐ ।

तलाऽ दी त्यारी

मौसम तलाएं च मांसाहारी ते अवधनीय क्षुद्र प्रजातियेँ दियां मच्छियां होने दा शक्क नेईं रौंह्दा ते बारांमासी तलाएं च एह् मच्छियां होई सकदियां न । ऐसे तलाएं च जून म्हीने च तलाऽ च घट्ट पानी होने करी पलै-पलै जाल फेरियै हानिकारक मच्छीयें ते कीड़े मकोड़ें गी निकाली देना चाहिदा । जेकर तलाऽ च मवेशी बगैरा पानी नेईं पींदे न तां ओह्दे च ऐसी मच्छीयें गी मरने आस्तै 2000 थमां 2500 किलोग्राम प्रति हेक्टर प्रति मीटर दी दर कन्नै महुआ खल द प्रयोग करना चाहिदा । महुआ खल दे इस्तेमाल करने कन्नै पानी च रौहनें आह्ले जीव मरी जंदे न । ते मच्छियां बी प्रभावत होइयै मरने दे पैह्लें उप्पर आई जंदियां न । जेकर इस बेलै इं’नेगी बाहर कड्ढी लैता जा तां खाने ते बेचने दे कम्म च आई जंदियां न । महुआ खल दे इस्तेमाल करने उप्पर एह् ध्यान रखना जरूरी ऐ जे इसदे इस्तेमाल दे बाद तलाऽ गी 2 शा 3 हफ्ते तरक कोई बी कम्मै च इस्तेमाल नेईं कीता जा । महुआ खल पाने दे 3 हफ्ते बाद ते मौसमी तलाएं च पानी भरने दे पैह्ले 250 शा 300 कि, ग्रा प्रति हेक्टर दि दर कन्नै चूना सुट्टेआ जंदा ऐ जिस कन्नै पानी च रौह्ने आह्ले कीड़े-मकोड़े मरी जंदे न । चूना पानी दे पी एच गी नियंत्रत करियै खरा बधांदा ऐ ते पानी साफ रखा ऐ । चूना पाने दे इक हफ्ते बाद तलाऽ च 10,000 किलोग्राम प्रति हेक्टर हर साल गोहे द देसी हैल पाना चाहिदा । जिनें तलाएं च खेतरें द पानी ते नाले, चा बरखा द पानी बगियै औंदा ऐ ओह्दे च हैल घट्ट मात्र च पाया जाई सकदा ऐ कि जे इस चाल्लीं दे पानी च बैसे बी मती मात्रा च हैल होंदा ऐ । तलाऽ दे पानी । तलाऽ दे पानी आह्ले नकास जां पानी औनें आह्ले रस्ते उप्पर जाली बी लाई जाई सकदी ऐ ।

तलाऽ च मच्छी बीऽ पाने शा पैह्ले इस गल्ल द ध्यान रखना लोड्चदा ऐ जे उस तलाऽ च प्रयुर मात्रा च मच्छी द प्राकृतिक आहार (प्लैंकटान) ऐ । तलाऽ च प्लैंकटान दी सेही मात्रा करने दे उदेश्य कन्नै एह् जरूरी ऐ जे गोहे दे हैल कन्नै सुपर-फास्फेट 300 किलोग्राम ते यूरिया 180 किलोग्राम हर साल प्रति हेक्टर कन्नै पाया जा । साल भर आस्तै निर्धारत मात्रा (10000 किलोग्राम गोहा हैल , 300 किलोग्राम सुपरफास्फेट ते 180 किलोग्राम यूरिया ) दि 10 म्हीनें च बराबर बराबर पाना चाहिदा । इस चल्लीं हर म्हीनै 1000 किलो गोहे द हैल , 30 किलो सुपरफास्फेट ते 18 किलो यूरिया द इस्तेमाल तलाऽ च करने उप्पर प्रयुर मात्रा च प्लैंकटान दी उत्पति होंदी ऐ ।

मच्छी बीऽ संचयन

आमतौर उप्पर तलाऽ च 10000 फ्राई ते 5000 फिंगर्लिंग प्रति हेक्टर दी दर कन्नै (संचय) चयन करना चाहिदा । एह् अनुभव कीता गेआ ऐ जे इससे घट्ट मात्रा पानी च उपलब्ध खुराक द पूरा इस्तेमाल नेईं होई सकदा ते मती मात्रा च सारी मच्छियें गी पूरा आहार नेईं थ्होंदा । तलाऽ च पेदे आहार द पूरे इस्तेमाल आस्तै कतला सतेह् उप्पर रोहू बाशकार च ते मिग्रल मच्छली तलाऽ दे तल च पेदे आहार दा इस्तेमाल करदी ऐ । उस चाल्लीं ई’ने त्रौ’नें प्रजातियें दे मच्छी बीऽ दे चुनांऽ कन्नै तलाऽ दे पानी दे स्त्रर उप्पर पेदी खुराक दा पूरे रूप कन्नै उपयोग होंदा ऐ ते इस कन्नै मती पैदावार हासल कीती जाई सकदी ऐ ।

पालने जोग देशी मुक्ख सफर मच्छियां (कतला , राहू , म्रिगल ) दे लावा किश विदेशी प्रजातियों दियां मच्छलियां (ग्रास, कार्प , सिल्वर कार्प , कमान कार्प ) दा बी अज्जकल चुनाऽ होऐ करदा ऐ । अतः देशी ते विदेशी प्रजातियें दियें मच्छलियेँ दा बीऽ मिश्रत मच्छी पालने दे अंतर्गत चुनाऽ कीता जाई सकदा ऐ । विदेशी प्रजातियेँ दियां एह् मच्छलियां देशी मुक्ख सफर मच्छलियेँ कन्नै कोई सांझ नेई रखदी ऐ । सिल्वर कार्प मच्छी कतला दे समान पानी दे उप्परली सतह् कन्नै , ग्रास कार्प रोहू दी चाल्लीं स्तम्भ कन्नै ते कामन कार्प म्रगल दी चाल्लीं तलाऽ दे तले पर खुराक ग्रैह्न करदी ऐ । इस समस्त छे प्रजातियेँ दे मच्छी बीऽ दा चुनाऽ होने उप्पर कतला , सिल्वर कार्प , रोहू , ग्रासकार्प , मिग्रल ते कामन कार्प गी 20 : 20 :15:15:15:15 दे अनुपात च चुनाऽ कीता जाना चाहिदा । मच्छी बीऽ पलीथीन लफ़ाफ़े च पानी भरियै ते आक्सीजन ब्हा भरियै पैक कीती जंदी ऐ । तलाऽ च बी छोड़ने दे पैह्ले पैकट (लिफाफे) गी थोड़ी चिर आस्तै तलाऽ दे पानी च रक्खना चाहिदा । फ्ही किश तलाऽ दा पानी लिफाफे च जाने देने मगरा समतापन ( एकिमेटाइजेद्गन ) बातवारन त्यार करी लैना चाहिदा ते फ्ही लिफाफे दे मच्छी बीऽ गी बल्लें-बल्लें तलाऽ दे पानी कन्नै मलाई देना चाहिदा । एह्दे कन्नै मच्छी बीऽ दी उत्तर जाविता बधाने च मदद मिलदी ऐ ।

उप्परली खुराक

मच्छी बीऽ चुनांऽ दे बाद जेकर तलाऽ च मच्छी दी खुराक घट्ट ऐ जां मच्छी दी बाढ़ घट्ट ऐ तां चौले दी फक्क (भूसा) (कनकी मिश्रित राईस पालिस ) ते सरेआं जां मूंगफली दी खल लगभग 1800 शा 2700 किलो ग्रां प्रति हेक्टर हर साल दे मान कन्नै देनी चाहिदी ।

इसगी हर दिन इस पक्के समें उप्पर पाना चाहिदा जेह्दे कन्नै मच्छी उसगी खाने दा समां बन्नी लै ते खुराक व्यर्थ नेईं जंदी ऐ । ठीक रौह्ग जे खाद-पदार्थ बोरे गी भरियै डंडे दे स्हारे तलाऽ च केईं थाह्र बन्नी देओ ते बोरे च बरीक-बरीक सुराख करी देओ । एह् बी ध्यान रखना जरूरी ऐ जे बोरे द ज़्यादातर भाग पानी दे अंदर डुब्बी रवै ते किश भाग उप्पर रवै ।

आम परिस्थिति च प्रचलत पुराने तरीके कन्नै मच्छीपालन करने च जित्थें 500-600 कि ग्रा प्रति हेक्टयर हर साल द उत्पादन हासल होंदा ऐ , उत्थें आधुनिक विज्ञानिक पद्धति कन्नै मच्छी पालन करने कन्नै 3000 शा 5000 कि॰ ग्रा हेक्टर हर साल मच्छी उत्पादन करी सकदे आं । आंध्रप्रदेश च इस पद्धति कन्नै मच्छीपालन करियै 7000 कि॰ ग्रा हेक्टर हर साल तकर उत्पादन लैता जा करदा ऐ ।

मच्छी पालने आह्लें गी हर म्हीने जाल मारियै मच्छलियेँ दी बढ़ौतरी दा निरीक्षन करदे रौह्ना चाहिदा , जिस कन्नै मच्छलियेँ गी दित्ते जाने आह्ली पूरी खुराक दी मात्रा निरधार्त करने च असानी होग ते मच्छलियेँ दी बढ़ौतरी दर दा पता लग्गी जाह्ग । जेकर कोई बमारी लब्भै तां तौलें शा तौलें इलाज करना चाहिदा ऐ ।



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate