অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

जलवायु सरबंधी जानकारियां

भारत दा खेतीबाड़ी जलवायविक बर्गीकरन

एह् भाग खेतीबाड़ी जलवायविक बर्गीकरन दी जानकारी गी ओह्दी उपयोगिता गी दिखदे होई दित्ता गेआ ऐ ।

नमीं जीव सरबंधी तनाऽ गी विकसत करना ते मती प्रभावी खेतीबाड़ी पद्धतियें गी विकसत करने आस्तै मती सारी खेतीबाड़ी जलवायकी दी जानकारी जरूरी ऐ । एह् नेई सिर्फ बरखा ते वायुमंडल तापमान गी बल्के विकिरन , वाश्न ते मृदा आर्द्रता गी सरबंधित करदी ऐ ।

खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तर केह् ऐ

इक “खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तर “ मुक्ख जलवायु दे संदर्भ च इक जमीन दी इकाई ऐ जेह्ड़ी इक निश्चत सीमा दे अंदर फसलें दियां किस्मां ते जोतने आह्ले आस्तै जरूरी होंदी ऐ । एह्दा उदेश्य प्राकृतिक संसाधनें ते पर्यावरन दी स्थिति जीआई प्रभावत कीते बगैर भोजर , फाइबर , चारा ते लकड़ी शा मिलने आह्ले ईंधन दी उपलब्धा गी बनाए रखना ते इ’नें खेत्तरिय संसाधनें द विज्ञानक प्रबंधन करना ऐ । इक खेतीबाड़ी परिस्थतिकी खेत्तर जलवायु मुक्ख तौर उप्पर मिट्टी दियां किस्मां , फसल दी उपज बरखा , तापमान ते पानी दा होना बनस्पति दे किस्में गी प्रभावित करने आह्ले कारकें दे संदर्भ च समझेआ जंदा ऐ । (एफएओ , 1983 ) खेतीबाड़ी जलवायवी जोजना दा लक्ष्य , प्राकृतिक ते माह्नू निर्मित दा होना दोऐ गै संसाधने दा मता विज्ञानिक रूप कन्नै इस्तेमाल करना ऐ ।

भारत दे खेतीबाड़ी खेत्तरें दी जोजना

329 लक्ख हेक्टर भुगोलक खेत्तर दे कन्नै देश खेतीबाड़ी जलवायु स्थितियें दी इक बड़ी मती संख्या गी प्रस्तुत करदा ऐ ।

देश च खेतीबाड़ी जलवायवी जानकारी प्रस्तुतिकरन आस्तै हून पूरे आंकड़े मजूद न ।

मिट्टी , जलवायु , भुगोलक ते प्रकर्तिक बनस्पति दे सरबंध च विज्ञानिक आधार उप्पर वृहद स्तर दी योजना निर्मान आस्तै नेकां प्रयास कीते गेदे न । एह् इस चाल्लीं न ।

  • जोजना आयोग आसेआ निर्धारत खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तर
  • राष्ट्रीय खेतीबाड़ी अनुसंधान परिजोजना ते तैह्त खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तर (NARP)
  • मृदा सर्वेक्षन ते जमीन इस्तेमाल जोजना राष्ट्रीय ब्यूरो आसेआ निर्धारित खेतीबाड़ी परसीयतीक खेत्तर (NBSS ते LUP) राष्ट्रीय खेतीबाड़ी अनुसंधान परियोजना (पी . आर . ए . एन )

परसीयतीक खेत्तर (NBSS ते LUP) राष्ट्रीय खेतीबाड़ी अनुसंधान परियोजना (पी . आर . ए . एन ) दे अधीन भारत दे खेतीबाड़ी जलवायविक खेत्तरें दे चित्रन बर्तमान च स्थल विशिश्ट अनुसंसाधन गी बढ़ावा देना ते खेतीबाड़ी उत्पादन बधाने आस्तै नीतियां दे विकास दे उदेश्य कन्नै खेतीबाड़ी जलवायविक खेत्तरें दी पंछान गी बड़ी मती प्रेरना मिली ऐ । मति ते ठीक खेतीबाड़ी गतिबिधियेँ दियें जोजनाएँ दे उदेश्य कन्नै हर इक खेत्तर (जोजना आयोग आसेआ प्रस्तावित 15 संसाधन विकास खेत्तर ) जीआई एन ए आर पी आर पी जोजना दे अधीन म्रदा , जलवायु , तापमान , बरखा , ते बाकी होर खेतीबाड़ी मौसम विज्ञान लक्षनें दे आधार उप्पर उप- खेत्तरें च बंडेया गेआ ऐ ।

हर इक राज्य दे ब्रहत अनुसंधान समीक्षा उप्पर आधारित एन ए आर पी दे अधीन भारत च कुल 127 खेतीबाड़ी जलवायविक खेत्तर पंछाने गे न । खेतत्रीय परिसीमां दस्सदे बेलै हर राज्य दे भू-आक्र्तक मंडलें , ओह्दी बरखा पद्धति मृदा दियेँ किस्में , संचाई आह्ले पानी दा होना , बर्तमान शस्य पद्धति ते प्रशासनिक एककें गी इस चाल्ली बचारार्थ लैता गेआ ऐ जे खेत्तर च प्राचलें उप्पर थोह्डी मती गै बक्खरापन होऐ । एन ए आर पी दे खेत्तरियें परिसीमा दा चित्रन ज्यादतर उप्पर जिलें ते किश मामलें च तसीलें /बलाकें जां उपमंडले दे रूप च बी पूरा बचार्राथ लैता गेआ ऐ ।

जोजना आयोग आसेआ दित्ते गेदे खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तर सतमीं जोजना दे नियोजन लक्षयेँ दी महयाविधि समीक्षा दा इक परिनाम दे रूप च जोजना आयोग ने प्राकृतिक भूगोल , मिट्टी भू-विज्ञानक संरचना , संचाई द विकास ते खेतीबाड़ी आस्तै खनिज संसाधनें दी जोजना जलवायु पैटर्न अग्गें दी रननीति दे विकास आस्तै फसल दे आधार उप्पर देश गी पंदरा (15) व्यापक खेतीबाड़ी जलवायु खेतरें च बंड़ेआ ऐ । चौह्दां (14) खेत्तर मुक्ख जमीन कन्नै सरबंधत हे ते बाकी इक बंगाल दी खाड़ी ते अरब सागर दे द्वीप च हा ।

इं’दा मुक्ख उदेश्य तकनीकी खेतीबाड़ी गल्लें उप्पर अधारत नीति दा विकास कारियै राज्य ते राष्ट्रीय जोजनाएँ दे कन्नै खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तरें गी एकीक्रत करने आस्तै कीता गेआ हा । खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तरिय जोजना च अग्गें खेतीबाड़ी परिस्थितिकी मापदंड दे आधार उप्पर इ’नें खेतरें दा खेत्तरिय विभाजन संभव होई पाया ।

मृदा सर्वेक्षन ते जमीन उपयोग जोजना राष्ट्रीय ब्यूरो आसेआ निर्धारित खेतीबाड़ी परिस्थितिक खेत्तरें ( NBSS ते Lup)

मृदा सर्वेक्षन ते जमीन इस्तेमाल जोजना राष्ट्रीय ब्यूरो आसेआ निर्धारित खेतीबाड़ी परिस्थितिक खेत्तर (NBSS ते LUP ) प्रभावी बरखा मिट्टी समूह जिलें दी सीमा गी समायोजित कारियै खेत्तरें दी इक घट्ट शा घट्ट संख्या दे कन्नै दर्शाइयै 20 खेतीबाड़ी जलवायु खेत्तरें दे कन्नै सामने आया । बाद च सारे 20 खेतीबाड़ी जलवायु जोन्स 60 उपखेत्तरें च बंडे गे ।

  • पच्छमी हिमालय
  • पच्छमी मदान , कच्छ ते कठियावाड प्रायद्वीप दा हिस्सा
  • दक्कन पठार
  • उत्तरी मदान ते उच्चि भूमि समेत अरावली
  • केंदिरीय मालवा उच्च भूमि , गुजरात दे मदान ते कठियावाड प्रायदीप
  • दक्कन पठार , गर्भ अद्धा खुश्क ईको खेत्तर
  • डेक्कन (तेलेंगना) पठार ते पूर्वी घाट
  • पूर्वी घाट , तमिल नाडु दे पठार ते डेक्कन (कर्नाटक )
  • उत्तरी सादा, गर्म उप आर्द्र (सूक्खा ) ईको खेत्तर
  • केंदिरीय मालवा उच्च भूमि , (मालवा । बुंदेलखंड ते पूर्वी सतपुड़ा )
  • पूर्वी पठार (छत्तीसगढ़ ), गर्म उप आर्द्र घाट
  • पूर्वी (छोटानागपुर) पठार ते पूर्वी घाट
  • पूर्वी सादा
  • पच्छमी हिमालय
  • बंगाल ते असाम दे मदान
  • पूर्वी हिमालय
  • उत्तर पूर्वी हिल्स (पूर्वचल)
  • पूर्वी तटिय सादा
  • पच्छमी घाट ते तटीय घाट
  • अंडमान निकोबार ते लक्षदीप दे दीप

स्तोत्र : खेतीबाड़ी मौसम विज्ञान विभाग , भारत सरकार



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate