অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

मानक-वि‍ज्ञान अध्‍ययन दी इक प्रेरणा

‘मानक’-विद्यार्थियें लेई वि‍ज्ञान अध्‍ययन दी इक प्रेरणा

मिलियन माइंड्स आग्मेंटिग नेशनल आस्परेशन एंड नालेज (मानक) वि‍ज्ञान ते प्रौद्योगि‍की मंत्रालय आसेआ लागू इक राश्ट्री कार्यक्रम ऐ जेह्​ड़ा विद्यार्थियें च मौजूद प्रति‍भा गी वि‍ज्ञान दे अध्‍ययन ते अनुसंधान कारज च कैरि‍यर नि‍र्माण लेई आकर्श‍त करदा ऐ।

घटक

इस कार्यक्रम दे त्रै घटक न -

  • वि‍ज्ञान आह्​ली बक्खी प्रति‍भाएं दी शुरूआती आकर्शण योजना (एसईएटीएस), दे दो उप-घटक न 5000 रपेऽ दा मानक इनाम ते कुसै वि‍ज्ञान शि‍वि‍र च वैश्‍वि‍क वि‍ज्ञान अग्रणि‍यें राहें मेंटरशि‍प।
  • बी.एससी ते एम.एससी स्तरें पर न‍रंतर शि‍क्षा लेई 80,000 रपेऽ दी दर कन्नै उच्चतर शि‍क्षा छात्रवृत्ति(एसएचई)।
  • युवा अनुसंधानकर्ताएं लेई अनुसंधान कैरि‍यर लेई भरोसेमंद अवसर (एओआरसी) दे बी दो उप-घटक न- मानक फेलोशि‍प ते मानक फैकल्टी।

जद् के‍, योजना दे पैह्​ले घटक-मानक इनाम दी अमलावारी राज्‍यें/केन्‍द्र शासि‍त प्रदेशें राहें केंदरी स्‍तर पर कीता जंदी ऐ। योजना दे होरनें घटकें दी अमलावारी सरबंधत शैक्षि‍क/अनुसंधान संस्‍थानें ते यूनिवर्सटियें बगैरा राहें वि‍ज्ञान ते प्रौद्योगि‍की वि‍भाग आसेआ केंदरी स्‍तर पर कीता जंदा ऐ। मानक इनाम योजना दा उद्देश 10-15 ब’रें दे बरेस समूह् विद्याथियें गी वि‍ज्ञान दे खेत्तर च आकर्श‍त करने ते कैरि‍यर बनाने ते ट्रेनिंग दा अनुभव करने लेई उनेंगी सुवि‍धा प्रदान करना ऐ।

मुक्ख वि‍शेशतां

  • योजना अधीन 11मीं पंजसाली योजना दी मंजूरी अनुसार पंजसाली योजना अवधि‍ दरान 5000 रपेऽ दे मानक इनाम लेई देश दे हर स्कूल थमां दो विद्यार्थियें (छेमीं थमां लेइयै 10बी क्लासै तगर) दा चुनांऽ कीता जंदा ऐ, तां जे‍ ओह् वि‍ज्ञान दे प्रोजेक्ट/माडल त्यार करी सकन। मानक इनाम लेई वारंट सिद्धे तौर पर चुनिंदा विद्यार्थी दे नांऽ कन्नै जारी कीता जंदा ऐ ते राज्य/स्कू‍ल दे अधि‍कारि‍यें राहें उं’दे कोल भेजेआ जंदा ऐ।
  • योजना अधीन सब्भै इनाम हासलकर्ताएं लेई जि‍ला स्तरी प्रदर्शनी ते प्रोजेक्ट प्रति‍योगि‍ता (डीएलईपीसी) च हिस्सा लैना जरूरी होंदा ऐ। जि‍ले थमां आई दियां 5 थमां 10 प्रति‍शत सर्वश्रेश्ठ प्रवि‍श्टियें दा चुनांऽ राज्यी स्तरी प्रदर्शनि‍यें ते प्रोजेक्ट प्रति‍योगि‍ता (एसएलईपीसी) च हिस्सा लैने लेई कीता जंदा ऐ।
  • राज्यें/केन्द्रि शासि‍त प्रदेशें थमां आई दियां सर्वश्रेश्ठ 5 प्रति‍शत प्रवि‍श्टि‍यें (घट्ट थमां घट्ट पंज) दा चुनांऽ राश्ट्री स्तर दी प्रदर्शनी ते प्रोजेक्ट प्रति‍योगि‍ता (एनएलईपीसी) च भागीदारी लेई कीता जंदा ऐ। सभनें स्तरें पर परि‍योजनाएं दा मूल्यांकन वि‍शेशज्ञें दी इक नि‍र्णायक समि‍ति‍ आसेआ कीता जंदा ऐ।
  • डीएलईपीसी, एसएलईपीसी ते एनएलईपीसी दे चुनिंदा इनाम हासलकर्ताएं कन्नै गै प्रोजेक्टप दी त्यारी लेई मार्गदर्शन देने आह्​ले मेंटर/शि‍क्षक लेई भागीदारी/हुश्यारी दे सार्टिफिकेट जारी की‍ते जंदे न। जि‍ला, राज्य ते राश्ट्री स्तर पर प्रदर्शनि‍यां आयोजि‍त करने पर औने आह्​ला पूरा खर्चा वि‍ज्ञान ते प्रौद्योगि‍की वि‍भाग आसेआ कीता जंदा ऐ।
  • मानक इनाम हासलकर्ताएं लेई विद्यार्थियें दा चुनां​ऽ हर स्कूल दे हैसमास्टर/प्रिंसीपल आसेआ कीता जंदा ऐ, जि‍सलेई वि‍ज्ञान च रुचि‍ रखने आह्​ले सर्वश्रेश्ठ विद्यार्थी दा नामांकन भेजना ते इसदे कन्नै गै नामांकन ते चुनां​ऽ लेई स्कूल आसेआ नि‍र्धार‍त शर्तें दा ब्योरा बी भेजना जरूरी ऐ। जि‍ला स्तर पर शि‍क्षा अधि‍कारी निर्धारत प्रारूप च अपने खेत्तर अधि‍कार दे स्कूलें दा ब्योरा त्यार करदे न ते राज्य स्तर पर शि‍क्षा अधि‍कारि‍यें राहें प्रस्तावत डीएसटी कोल भेजदे न।
  • छेमीं क्लास थमां लेइयै 10मीं क्लासै तगर दी पढ़ाई करने आह्​ले देश दे सब्भै स्कूल भाएं ओह् सरकारी जां गैर-सरकारी होन, अनुदान हासल होन जां बि‍ना अनुदान होन, भाएं ओह् केंदर सरकार जां राज्य सरकार जां मकामी नि‍कायें आसेआ संचाल‍त होन, इस योजना च भागीदारी लेई पात्र न।
  • राज्य दे अधि‍कारि‍यें थमां इस चाल्ली हासल कीते गेदे प्रस्तावें लेई योजना दे मानकें अनुसार डीएसटी च प्रक्रि‍या संचाल‍त कीती जंदी ऐ ते चुनिंदा विद्यार्थियें दे नांऽ कन्नै इनाम वारंटें गी त्यार करने लेई डीएसटी दे बैंकर कोल इक चुनिंदा विद्यार्थियें दी सूची भेजी दित्ती जंदी ऐ। बैंक थमां इस इस चाल्ली हासल इनाम वारंटें गी जि‍ला स्तरी शि‍क्षा अधि‍कारि‍यें राहें चुनिंदा इनाम हासलकर्ताएं तगर पजाने लेई राज्यस्तरी अधि‍कारि‍यें कोल भेजी दि‍त्ता जंदा ऐ।

योजना दी शुरूआत थमां लेइयै डीएलईपीएससी च दो लक्ख थमां मते इनाम हासलकर्ताएं हिस्सा लैता ते डीएलईपीसी दे चुनिंदा लगभग 15 ज्हार इनाम हासलकर्ताएं एसएलईपीसी च हिस्सा लैता। इस योजना च सब्भै 35 राज्‍य/केन्‍द्र शासि‍त प्रदेशें हिस्सा लैता। डीएलईपीसी, एसएलइ्पीसी कन्नै सरबंधत खर्च गी पूरा करने लेई इलेक्‍ट्रानि‍क फंड ट्रांसफर राहें राज्‍य दे नोडल अधि‍कारी कोल उंदे अधि‍सूचि‍त बैंक खाते च रकम‍ भेजी दित्ती जंदी ऐ।

12मीं पंजसाली योजना (2012-17) दरान एह् योजना जारी ऐ। एह् मुमकन ऐ जे‍ इसदा दायरा बी बधाया जाई सकदा ऐ ते इसदे अधीन हर ब’रे प्रति‍स्‍कूल इक इनाम गी मंजूरी देने दी प्रस्‍ताव सरकार कोल वि‍चारधीन ऐ। जेकर‍ इसी मंजूरी मि‍लदी ऐ तां इसदा अर्थ एह् होग जे‍ पंजसाली योजना अवधि दरान हर ब’रे लगभग चार लक्ख इनामें दे स्हाब कन्नै 20 लक्ख इनामें गी मंजूरी मि‍लग, इस कन्नै देश दे 4.5 थमां लेइयै पंज लक्ख स्‍कूलें च थमां लगभग 80 थमां 90 प्रति‍शत स्‍कूलें दी भागीदारी मुमकन होई सकग।

इस योजना दे बारे च होर मती जानकारी लेई इत्थै क्लिककरो।

स्त्रोत: पसूका कार्यालय(प्रेस इंफार्मेशन ब्यूरो-पीआइबी)



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate