অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

अपनी सेह्त दी देखभाल

परिचय

जिसलै इस कसरे होई जन्नें आं तां परिवार दे दूए लोकें उप्पर असर पौंदा ऐ । कसरे होए माह्नू दी दिक्ख-रिक्ख करने आस्तै घरै दे लोक बी खेत-खलिहान नेईं जाई सकदे न , ञ्यानें स्कूल नेईं जाई सकदे न । जानि औंदनी च होर मती कमी ।

चलो अपने सेह्त दी देख-भाल करने आस्तै जानकारी लैचै ते बचाऽ दा रस्ता अपनचै । साढ़ी सेह्त तां गै ठीक रेही सकदी ऐ जांह् तकर साढ़े आंढ-गुआंढ दे लोक , साढ़े टोले ते ग्रां ऽ दे लोक बी उन्नें गै सेह्त मंद हों जि’यो अस बनाना चांह्दे आं , किजे सेह्त दा सरबंध आले-दुआले दी सफाई ते वातावरन कन्नै जुड़ी ऐ ।

सेह्त दी देखभाल सिर्फ इक परिवार दी समस्या नेईं ऐ , पूरे समुदाय दी जरूरत ऐ । इसकरी बमारी शा बचाऽ भला ।

सेह्तमंद रौंह्ने आस्तै केह् खायै

सेह्तमंद रौंह्ने आस्तै सारें शा जरूरी ऐ शैल , साफ-सुथरा खाना । शैल खाने दा मतलब मती रूट्टी नेईं ऐ । शैल खाने दा मतलब ऐ ओह् सारी खाने आह्लियां चीजां जेह्दे कन्नै साढ़ी सेह्त ते ताकत आस्तै सारे गुन होन ।

ताकत देने आह्ले नाज / भोजन

  • (अ)नाज         :कनक , चौल , मक्क
  • दाल             : चना , अरहर , मूंग , मांह , मसर
  • भारीदार           :आलू , शकरकंदी , ओल , अरबी , मूली
  • हरी सब्जी ते साग
  • पीली सब्जी       : कुभ्हड़ा
  • फल             : अमरुद, आम, पपीता, केला
  • दुद्ध              : देहीं , लस्सी , छेना
  • आंडा , मुर्गा , मांस , मच्छी
  • तेल , घ्यो , मक्खन
  • गुड़ , खंड । मखीर
  • बक्ख-बक्ख चाल्लीं दे मसलें

साढ़े खाने च उप्पर दित्ते गे सारियें चीजें दा थोह्ड़ा- थोह्ड़ा हिस्सा जरूर होना चाहिदा । सिर्फ चौल , रुट्टी ते सब्जी खाने कन्नै शैल सेह्त नेईं होई सकदी ऐ ।

गर्भवती ते दुद्ध पेलने आह्ली जनानी दा भोजन

जिसले मांऽ दी कुक्खै च ञ्याने पलै करदा होंदा ऐ तां उसगी मती ते ताकत देने आह्ली खुराक दी ज़रूरत पौंदी ऐ । मांऽ दी कुक्खै च पलै करदा ञ्यानें बी मांऽ ताकत देने आह्ली खुराक जां खाना नेईं लैंदी ऐ तां :

  • ञ्यानें कमजोर घट्ट भार आह्ला ते निक्का होंदा ऐ ।
  • जनम दे समें ओह् मरी बी सकदा ऐ ।

इस बेलै अपना ते दुद्ध पिलाने तकर मांऽ जीआई रूट्टी , चौल , दाल सोयाबीन , फल-फ्रूट , दुद्ध , मांस मच्छी मती मात्रा च देनी चाहिदी तां जे मांऽ ते ञ्यानें दोऐ सेह्तमंद रौह्न । मता दुद्ध मिलै तां जे ञ्यानें कमजोर नेईं होई जा ।

निक्के ञ्यानें आस्तै सेह्तमंद आह्ला खाना

जनम शा चार म्हीनें दे ञ्यानें आस्तै :

  • ञ्याने दे जनम दे तौले बाद मांऽ गी अपना पैह्ला पीला गाढ़ा दुद्ध जरूर पिलाना चाहिदा । एह् ञ्यानें गी बिमारीयें शा दूर अखड़ा ऐ ।
  • ञ्यानें गी डब्बे आह्ला दुद्ध कदें नेईं देना चाहिदा । एह दुद्ध जानलेवा होंदा ऐ ।
  • चार म्हीनें तकर मांऽ गी ञ्यानें गी अपना दुद्ध गै पिलाना चाहिदा । उसगी कुसै होर खाने जां पानी दी जरूरत नेईं पौंदी ऐ ।
  • जेकर मांऽ गी पूरा दुद्ध नेईं निकलै तां मांऽ गी मता पानी पीना चाहिदा । पत्तेदार साग , पपीता , थोम , दुद्ध मांस , आंडा , मच्छी खाना चाहिदा ।
  • जेकर भलेआं दुद्ध नेईं निकलै तां बी ञ्यानें अपना स्तन चूसने देओ । कदें ना कदें दुद्ध जरूर निकलग । इस च गौ , बकरी जां मेहीं दे दुद्ध च पानी ते थोह्ड़ी खंड मिलाइयै ञ्यानें गी पिलाओ । दुद्ध घै गी उबालियै ठंडा होने उप्पर गै देओ ।
  • जिसलै ञ्यानां चार म्हीनें द होई जा तां मांऽ गी अपने दुद्ध दे कन्नै –कन्नै दूई चाल्लीं डा बी भोजन देना जरूरी ऐ । ञ्यानें दे खाने गी शैल चाल्लीं पकाओ ते मलो ।

चार शा छे म्हीने तकर – दाल ते पत्तेदार सब्जियों गी पकाने आह्ला पानी मसली दी दाल , रूट्टी , सब्जी मसले डा केला ते पपीता , दुद्ध च पकाया दलिया ।

छे म्हीने शा इक साल तकर – मसले द बत्त , रूट्टी , दाल दे कन्नै-कन्नै हरी सब्जियां मसले दे केला फल ते सब्जी ।

  • गाजर (उबले ते मसलें )
  • कुम्ह्ड़ा ( नेईं )
  • पपीता (मसलियै )

थोह्ड़ा-थोह्ड़ा खाना दिनै च पंज थमां छे बार

दुद्ध पिलान बंद नेईं करो

जेकर आस सेह्त ठीक रक्खने आह्ला खाना नेईं लैचै तां केह् होग ?

ञ्यानें च                             कुसै बि माह्नू च

-भर नेईं बधग                      - कमजोरी ते थकान

-चलना , बोलना ते सोचना              - भुक्ख खत्म होई जाना

- बल्लें-बल्लें होग                        - खून दी कमी

-दोआसी ते कमजोरी                   - जीह्भ उप्पर जख्म

- फुल्ले डा ढिड्ड                        -पैरें दा फुल्लना ते सुन्न होना होना

- पतालियां पतालियां लत्तां ते हत्थ

- लम्मी बमारीं

- बालें दा झड़ना

- सुक्की-सुक्की अक्खां,

- पैर , चेहरा , हत्थें दा फुल्ली जाना

- दस्त

- सिर दर्द

- मसूड़ें थमां खून निकलना

स्त्रोत : संसर्ग , ज़ेवियर समाज सेवा संस्थान



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate